Ram Janmabhoomi Mandir in Ayodhya: बनने के बाद ऐसा दिखेगा राम मंदिर, देखें अद्भुत तस्‍वीरें

श्री रामजन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव ने 5 अगस्त को राम मंदिर के शिलान्यास समारोह में शामिल होने के लिए 35 धार्मिक संगठनों के 135 संतों सहित 175 लोगों को निमंत्रण दिया है.

अब वो घड़ी करीब आ गई है, जिसका देश दशकों से इंतज़ार कर रहा है. बुधवार 5 अगस्त को अयोध्या (Ayodhya) में राम मंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन का समारोह आयोजित किया जा रहा है. इसी बीच श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र (Shri Ram Janmbhoomi Teerth Kshetra) ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश के अयोध्या में भव्य राम मंदिर (Ram Mandir) के प्रस्तावित मॉडल की कई तस्वीरें जारी की हैं. तीर्थक्षेत्र ने माइक्रो-ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर घोषणा की कि श्री राम जन्मभूमि मंदिर भारतीय वास्तुकला और देवत्व और भव्यता की अभिव्यक्ति का एक अनूठा उदाहरण होगा.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ने ट्वीट किया, “श्री राम जन्मभूमि मंदिर भारतीय वास्तुकला का एक अनूठा उदाहरण होगा. यहां प्रस्तावित मॉडल की कुछ तस्वीरें हैं। जय श्री राम!”

नए डिजाइन में हुए कुछ बदलाव

नए डिजाइन में तीन गुबंद को जोड़ा गया है एक सामने से और दो साइड से, स्तंभों की संख्या 160 से 366 हो गई है. मंदिर की की सीढ़ियों की चौड़ाई 6 फीट से बढ़ाकर 16 फीट कर दी गई है. मंदिर की ऊचांई को 141 फीट से बढ़ाकर 161 फीट कर दिया गया है.

मंदिर का गर्भ गृह भगवान विष्णु को समर्पित मंदिरों को लिए शास्त्रों द्वारा डिजाइन में रखते हुए अष्टकोणीय होगा. सीता, लक्ष्मण, गणेश और हनुमान और अन्य देवाताओं को समर्पित चार अन्य मंदिर परिसर का हिस्सा होंगे. अशीष ने बताया कि मूल डिजाइन में  3 लाख क्यूबिक सैडस्टोन पत्थर का इस्तेमाल होना था लेकिन अब इसका दोगुना इस्तेमाल किया जाएगा.

कोरोना के चलते काफी सख्त रहेगी सुरक्षा व्यवस्था

श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट अधिकारियों ने यह तय किया है कि कोरोना संक्रमण के चलते मंदिर की नींव रखने का समारोह ज्यादा भव्य नहीं होगा. श्री रामजन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव ने 5 अगस्त को राम मंदिर के शिलान्यास समारोह में शामिल होने के लिए 35 धार्मिक संगठनों के 135 संतों सहित 175 लोगों को निमंत्रण दिया है.

राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय के मुताबिक कोविड-19 के प्रोटोकॉल के साथ ही प्रधानमंत्री की सुरक्षा को देखते हुए सुरक्षा व्यवस्था काफी सख्त रहेगी. भूमिपूजन के लिए 175 लोगों को निमंत्रण भेजा गया है. सभी निमंत्रण प्राप्त लोगों को यहां सुबह 10:30 बजे तक आना अनिवार्य है. इसके बाद प्रवेश नहीं मिलेगा.

उन्होंने कहा कि सभी निमंत्रण प्राप्त करने वालों को भूमि पूजन प्रांगण में सुबह 10:30 बजे तक आ जाना अनिवार्य है. इसके बाद किसी को भी किसी भी कीमत पर प्रवेश नहीं दिया जाएगा. सभी को प्रधानमंत्री के आगमन के दो घंटे पहले तक पहुंचना होगा.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts