महाराष्ट्र से लेकर दक्षिण भारत तक बारिश का कहर, तेलंगाना में 30 लोगों की मौत

दक्षिण भारत (South India) में भारी बारिश के चलते लोगों की मौत का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है. तेलंगाना (Telangana) में 30 और आंध्र प्रदेश में 10 लोग बारिश के चलते हुए हादसों में अपनी जान गंवा चुके हैं.

Photo Credit : ANI (Twitter)

दक्षिण भारत के कई राज्यों और महाराष्ट्र में भारी बारिश का कहर जारी है. तेलंगाना में भारी बारिश के चलते 30 लोगों की मौत हो गई. वहीं महाराष्ट्र (Maharashtra) के सोलापुर जिले में बारिश के चलते हुए हादसे में एक परिवार के चार लोगों समेत छह लोगों की मौत हो गई. हैदराबाद (Hyderabad) में 15 लोगों ने बारिश के चलते अपनी जान गंवा दी. आंध्र प्रदेश में 48 घंटे के भीतर बारिश की वजह से 10 लोगों की मौत हो चुकी है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तेलंगाना के मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी से बात की और राज्यों में बचाव और राहत कार्यों में केंद्र की ओर से हर संभव सहायता दिए जाने का आश्वासन दिया. केंद्रीय मंत्री अमित शाह ने कहा कि सरकार तेलंगाना और आंध्र प्रदेश पर लगातार नजर बनाए हुए है और मोदी सरकार मुश्किल की इस घड़ी में दोनों राज्यों को हर संभव मदद पहुंचाने के लिए प्रतिबद्ध है.

यह भी पढ़ें : हैदराबाद: भारी बारिश के बाद बाढ़ जैसे हालात, कई इलाकों में सेना ने किया रेस्क्यू

पूरा दिन भारी बारिश के चलते हुए हादसों की भयानक तस्वीरें आती रहीं. आंध्र प्रदेश के ईस्ट गोदावरी जिले में बारिश और जलभराव के चलते कई घर पानी में डूब गए. इतना ही नहीं कई इलाकों में पानी का बहाव इतना तेज था कि मकान ढह गए और पानी के साथ ही बह गए. हैदराबाद में बारिश के चलते ज्यातादर मौतें दीवार और घरों के ढहने से हुईं.

तेलंगाना सरकार ने बारिश को देखते हुए बाहरी रिंग रोड पर आने वाले सभी प्राइवेट दफ्तरों, संस्थाओं और गैर-जरूरी सेवाओं के लिए अवकाश की घोषणा कर दी है. लोगों को घरों में ही रहने की सलाह दी जा रही है. बता दें कि कर्नाटक में कावेरी नदी के सभी बड़े बांधों का जलस्तर काफी बढ़ गया है.

महाराष्ट्र का बुरा हाल

बारिश से महाराष्ट्र का भी हाल बुरा है. बुधवार को पुणे जिले के इंदापुर में एक व्यक्ति पानी के तेज बहाव में फंस गया. स्थानीय लोगों ने उसे जेसीबी की मदद से बाहर निकाला. महाराष्ट्र के सोलापुर में भारी बारिश की वजह से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया. पुणे-सोलापुर महामार्ग को पूरी तरह से बंद कर दिया गया है.

सोलापुर के बार्शी तालुका में 9 लोग पानी के बीच में फंस गए, जिसमें से एक व्यक्ति पेड़ के सहारे पानी में फंस गया. इनके साथ ही 8 लोग और बारिश में फंस गए. सभी ने जानवरों के लिए बनाए गए शेड को पकड़ कर अपनी जान बचाई. देर रात तक फंसे रहने के बाद भी इन तक किसी तरह की राहत नहीं पहुंची.

स्थानीय विधायक राजेंद्र राऊत ने प्रशासन से मांग की है कि बार्शी तालुका में पानी के बीच फंसे सभी लोगों को जल्द से जल्द बाहर निकाला जाए. सोलापुर के अनेक जगहों पर सड़क पर पानी भर जाने की वजह से यातायात ठप हो गया है. इतना ही नहीं हाईवे को बंद कर दिया गया है. प्रशासन ने किसी को भी रात में यात्रा न करने की सलाह दी है.

यह भी पढ़ें : सितंबर के आखिर में क्यों हो रही उमस भरी गर्मी? जानें कब तक राहत मिलने के आसार

Related Posts