हैदराबाद में दामाद की हत्या के आरोपी ससुर ने जहर खाकर की आत्महत्या

तेलंगाना के नलगोंडा जिले के मिरयालागुडा के एक अस्पताल के बाहर 24 साल के युवक पेरुमाल्ला प्रणय की उसकी गर्भवती पत्नी अमृता के सामने बेरहमी से हत्या कर दी गई थी. पुलिस जांच में पता चला कि मृतक मारुति राव ने 1 करोड़ की सुपारी देकर दामाद की हत्या करवाई थी.

  • Noor Mohammed
  • Publish Date - 11:19 am, Mon, 9 March 20
शाहजहांपुर: फेसबुक पर पति ने पोस्ट किया सुसाइड नोट, पत्नी पर लगाया उत्पीड़न का आरोप

हैदराबाद में दामाद की हत्या के मामले में मुख्य आरोपी ससुर ने जहर खाकर आत्महत्या कर ली है. मृतक की पहचान मारुति राव के रूप में हुई है. कई महीनों तक जेल में रहने के बाद मारुति राव बेल पर बाहर आया था. हालांकि, पुलिस मारुति राव के आत्महत्या के मामले में जांच कर रही है. घटना हैदराबाद के खैरताबाद स्थित आर्य वैश्य भवन की है.

तेलंगाना के नलगोंडा जिले के मिरयालागुडा के एक अस्पताल के बाहर 24 साल के युवक पेरुमाल्ला प्रणय की उसकी गर्भवती पत्नी अमृता के सामने बेरहमी से हत्या कर दी गई थी. ये वारदात सीसीटीवी कैमरे में रिकॉर्ड हुआ था जिसकी मदद से हत्यारे की पहचान की गई थी. इसमें पुलिस ने भाड़े के हत्यारे सुभाष शर्मा सहित सात लोगों को गिरफ्तार किया था. सुभाष को बिहार से गिरफ्तार किया गया था.

पुलिस जांच में पता चला कि मृतक मारुति राव ने 1 करोड़ की सुपारी देकर दामाद की हत्या करवाई थी. बाद में मारुति राव की बेटी अमृता के कहने पर पिता मारुति राव और चाचा को दामाद के हत्या के जुर्म में गिरफ्तार किया गया था.

इस घटना पर मृतक मारुति राव की बेटी अमृता ने कहा कि प्रणय के हत्या के बाद से पिता मारुति राव से कोई संबंध नहीं है, कोई बातचीत नहीं है. उन्होंने आत्महत्या कर लिया ये मीडिया के द्वारा ही पता चला है. अभी तक किसी और ने ये खबर हमें नहीं दी है. शायद पश्चाताप से आत्महत्या कर लिया हो.

क्या था मामला

मारुति राव की बेटी ने 31 जनवरी साल 2018 में दलित युवक पेरुमाल्ला प्रणय से लव मैरिज की थी. दोनों ने हैदराबाद जाकर आर्य समाज विधि से शादी की थी, इसके बाद दोनों वापस लौटे थे और प्रणय के घर में रहने लगे थे. शादी के बाद भी मारुति राव ने अपनी बेटी को वापस बुलाने की कई कोशिशें की, लेकिन बेटी ने मना कर दिया था. प्रणय दलित समुदाय से था, इसलिए अमृता के घरवालों को यह रिश्ता मंजूर नहीं था. दोनों के परिवार इससे नाराज़ थे, हालांकि प्रणय के परिवार ने बाद में दोनों को अपना लिया था, लेकिनअमृता के परिवार वाले नाराज ही चल रहे थे.

प्रणय के पिता बाला स्वामी ने बताया कि शादी के दो महीने बाद से ही वो प्रणय की हत्या करना चाहते थे. इस बात को लेकर प्रणय भी परेशान था. उसी बीच अमृता गर्भवती हो गईं थी, प्रणय और उनकी मां अमृता को लेकर मिरयालागुडा के निजी अस्पताल में उनकी जांच करवाने के लिए गए थे. अस्पताल से बाहर आ रहे थे तो एक व्यक्ति ने उनका पीछा किया और कुछ ही दूर पर प्रणय की गर्दन पर तेज धारदार हथियार से दो बार वार किया जिससे प्रणय की मौके पर ही मौत हो गई थी. यह मामला काफी चर्चा में आया था, राज्य भर में इसका काफी विरोध भी हुआ था.