सोनिया गांधी का केंद्र से सवाल- क्या यही है नया राजधर्म? बोलीं- सबसे कठिन दौर से गुजर रहा लोकतंत्र

सोनिया गांधी ने रविवार को एक बयान जारी कर कहा कि हमारा लोकतंत्र अपने सबसे कठिन दौर से गुजर रहा है. हमारे संविधान पर एक तरह से हमला किया जा रहा है.

  • Supriya Bhardwaj
  • Publish Date - 10:17 pm, Sun, 18 October 20
Sonia Gandhi
सोनिया गांधी (FILE)

कांग्रेस (Congress) अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने कई मुद्दों को लेकर केंद्र की बीजेपी सरकार पर सवाल उठाए हैं और पूछा, क्या यही नया ‘राजधर्म’ है? इसके साथ ही उन्होंने कहा कि हमारा लोकतंत्र अपने सबसे कठिन दौर से गुजर रहा है.

सोनिया गांधी ने रविवार को एक बयान जारी कर कहा कि हमारा लोकतंत्र अपने सबसे कठिन दौर से गुजर रहा है. हमारे संविधान पर एक तरह से हमला किया जा रहा है. उन्होंने कहा, ” देश में ऐसी सरकार काबिज हो गई है, जो देश के नागरिकों के हकों को मुट्ठीभर पूँजीपतियों के हाथों में सौंप देना चाहती है.”

उन्होंने कहा कि इस सरकार ने करोड़ों किसानों के खिलाफ तीन काले कानून लाकर खेती पर हमला बोला है. मोदी सरकार हरित क्रांति को हराने की साजिश कर रही है. करोड़ों खेत मजदूरों, बंटाईदारों, पट्टेदारों, किसानों, अनाज मंडियों में काम करने वाले गरीबों और छोटे दुकानदारों की रोजी-रोटी पर हमला बोला गया है. ये हमारा कर्तव्य है कि हम मिलकर इस षडयंत्र को विफल करें.

“कोरोना से लड़ने के लिए न कोई नीति न कोई रास्ता”

सोनिया ने यह भी कहा कि कोरोना महामारी में न सिर्फ मजदूरों को दर-बदर की ठोकरें खाने को मजबूर किया, पर साथ-साथ पूरे देश को महामारी की आग में झोंक दिया गया. 21 दिन में कोरोना महामारी को हराने का दावा करने वाले प्रधानमंत्री ने देश को अपने हाल पर छोड़ दिया है. अपनी जवाबदेही से मुंह मोड़ लिया है. कोरोना महामारी से लड़ने को लेकर न इनके पास नीति है, न सोच है, न रास्ता और न ही कोई हल.

“करीब 14 करोड़ रोजगार खत्म”

उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार ने देश के नागरिकों की मेहनत और कांग्रेस सरकारों की दूर दृष्टि से बनाई गई मजबूत अर्थव्यवस्था (Economy) को तहस-नहस कर दिया है, जिस प्रकार से अर्थव्यवस्था औंधे मुंह गिरी है, ऐसा पहले कभी नहीं हुआ. आज युवाओं के पास रोजगार नहीं है. 14 करोड़ के करीब रोजगार खत्म हो गए हैं. छोटे-छोटे कारोबारियों, दुकानदारों और असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले मजदूर भाइयों की रोजी-रोटी खत्म हो रही है, पर मौजूदा सरकार को कोई परवाह नहीं.

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि अब दलितों पर अत्याचार एक नए स्तर पर पहुंच गया है. उन्होंने कहा, “भारत की बेटियों को सुरक्षा देने और कानून का सम्मान करने के बजाए बीजेपी सरकार अपराधियों का साथ दे रही है.” सोनिया गांधी ने आखिर में सरकार से सवाल पूछते हुए कहा, “आज पीड़ित परिवारों की आवाज को दबाया और कुचला जा रहा है. क्या यही नया ‘राजधर्म’ है?”

कृषि कानून के खिलाफ कांग्रेस लाई ‘मॉडल एक्ट’, क्या गैर बीजेपी राज्य कर पाएंगे लागू?