दंतेवाड़ा नक्सली हमले में खुलासा, पुलिस की सलाह के बाद भी नक्सल इलाके में गए थे भीमा मंडावी

भाजपा विधायक भीमा मंडावी के काफिले पर हमला उस वक्‍त हुआ, जब वह चुनाव प्रचार करके लौट रहे थे. विस्‍फोट इतना जबरदस्‍त था कि गाड़ी के परखच्‍चे उड़ गए.

रायपुर. छत्तीसगढ़ में लोकसभा चुनाव के दौरान राज्य के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा जिले में नक्सलियों ने मंगलवार को बारूदी सुरंग में विस्फोट कर भाजपा विधायक भीमा मंडावी के वाहन को उड़ा दिया,  जिससे इस घटना में विधायक समेत पांच लोगों की मौत हो गई.  घटना के बाद दंतेवाड़ा के एसपी अभिषेक पल्लव ने बताया कि, भाजपा विधायक भीमा मंडावी को पुलिस ने इलाके का दौरा नहीं करने की सलाह दी थी.

एसपी  ने क्या कहा

दंतेवाड़ा में हुई घटना की जानकारी देते हुए दंतेवाड़ा के एसपी अभिषेक पल्लव ने बताया,”तीन बजे तक कैंपेन था, विधायक को 50 लोगों की लोकल फ़ोर्स सिक्योरिटी दी गई थी. तीन बजे वे बचेली में थे जहां से थाना प्रभारी के मना करने के बाद भी वो आगे निकल गए. कुआकोंडा से दो किलोमीटर पहले एक ब्लास्ट हुआ जिसमें विधायक और चार अन्य लोगों की मौत हो गई.”
उन्होंने आगे कहा कि,”हमने सबसे कहा था कि तीन बजे के बाद कैंपेन बंद हो रहा है और तीन बजे के बाद केवल घर-घर जाकर शहरी इलाक़ों में ही कैंपेन करें, अंदरूनी इलाक़े में ना करें, पर उनका इलाक़ा देखा हुआ था, तो उन्होंने हल्के में लिया, और बीच में एक मेले में भी रुके जिससे उनका लोकेशन भी आउट हो गया.” तेवाड़ा बस्तर लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत है, इस क्षेत्र में लोकसभा के लिए 11 तारीख को मतदान होना है.
नक्सलियों का हमला इतना भीषण था कि घटनास्थल पर 7 फुट गहरा गड्डा पड़ गया. जबकि इस हमले के चलते घटनास्थल पर 50 मीटर तक की सड़कों का नामो-निशान मिट गया.
नक्सलियों का हमला इतना भीषण था कि घटनास्थल पर 7 फुट गहरा गड्डा पड़ गया. जबकि इस हमले के चलते घटनास्थल पर 50 मीटर तक की सड़कों का नामो-निशान मिट गया.

चुनाव प्रचार से लौट रहे थे भीमा 

विधायक भीमा मंडावी के काफिले पर हमला उस वक्‍त हुआ, जब वह चुनाव प्रचार करके लौट रहे थे. विस्‍फोट इतना जबरदस्‍त था कि गाड़ी के परखच्‍चे तक उड़ गए. भीमा मंडावी की गाड़ी बुलेट प्रूफ थी, लेकिन बारूदी सुरंग में इतना ज्‍यादा विस्‍फोट इस्‍तेमाल किया कि गाड़ी के परखच्‍चे उड़ गए. बताया जा रहा है कि बीजेपी विधायक के काफिले में चार-पांच गाडि़यां थीं, लेकिन नक्‍सलियों ने बीजेपी विधायक की कार को ही निशाना बनाया.घटना तब हुई जब विधायक भीमा मंडावी अपने सुरक्षा काफिले के साथ जा रहे थे. भीमा मांडवी सुबह 9 बजे अपने सुरक्षा काफिले में 3 गाड़ियों के साथ, जिसमें वे खुद बुलेट प्रूफ गाड़ी में बैठकर चुनाव प्रचार-प्रसार के लिए निकले थे. उनकी सुरक्षा में दंतेवाड़ा की डीआरजी के 50 जवानों का बल बाइक पर सवार था. अपने दिन भर के कार्यक्रम खत्म करने के बाद उन्होंने अपनी सुरक्षा वापस कर दी थी.

विधायक भीमा मंडावी के कुंआकोण्डा मार्ग पर जाने की जानकारी मिलने के बाद बचेली थाना प्रभारी ने उन्हें 3 बजकर 50 मिनट पर फोन करके उस रास्ते से न जाने की सलाह दी थी क्योंकि उस मार्ग पर पर्याप्त सुरक्षा नहीं थी. जिसके थोड़ी देर बाद ही विधायक की गाड़ी को नक्सलियों ने IED ब्लास्ट में उड़ा दिए जिससे विधायक भीमा मंडावी समेत 4 सुरक्षाकर्मी शहीद हो गए.

naxal

यह हमला नकुलनाथ क्षेत्र के श्‍यामा गिरी के पास हुआ. बीजेपी विधायक की कार काफिले के बीच में चल रही थी. खबर यह भी है कि विस्‍फोट के बाद नक्‍सलियों ने न केवल फायरिंग की बल्कि अन्‍य गाडि़यों में मौजूद जवानों से हथियार भी छीने. इस दौरान जवानों के साथ नक्‍सलियों की मुठभेड़ भी हुई. टीवी9भारतवर्ष को मिली जानकारी के मुताबिक, नक्‍सलियों ने जवानों से हथियार भी छीने हैं.

दंतेवाड़ा में हुई नक्सली घटना की जानकारी मिलते ही मुख्य मंत्री भूपेश बघेल ने धरसींवा विकासखंड के दोन्दकला में आयोजित हो रही कार्यर्ताओं की बैठक अधूरी छोड़ कर रायपुर  रवाना हो गए. रायपुर पहुंच कर मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल सीएम हाउस में सुरक्षा संबंधी उच्च स्तरीय बैठक ले रहे हैं.

नक्सली हमले में शहीदों की बात करें तो इनके नाम इस प्रकार हैं-

विधायक – भीमा राम मंडावी

हेड कांस्टेबल- ‘छगन कुलदीप’

आरक्षक -सोमडू कवासी

हेड कांस्टेबल –  रामलाल ओयमी

वाहन चालक – दंतेश्वर मौर्य