संस्कृत बोलने से डायबिटीज और कॉलेस्ट्रॉल कम होता है, BJP सांसद गणेश सिंह का दावा

लोकसभा में विधेयक पर चर्चा हो रही थी. इसी दौरान चर्चा में भाग लेते हुए भाजपा के गणेश सिंह ने दावा किया कि अमेरिका आधारित एक शिक्षण संस्थान के अनुसंधान के अनुसार रोजाना संस्कृत भाषा बोलने से तंत्रिका तंत्र मजबूत होता है और डायबिटीज व कॉलेस्ट्रॉल कम होता है.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 6:47 am, Fri, 13 December 19

नई दिल्ली: लोकसभा में केंद्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय विधेयक पर चर्चा के दौरान मध्य प्रदेश के सतना से बीजेपी सांसद गणेश सिंह का दिया गया बयान सुर्खियों बटोर रहा है. गणेश सिंह ने कहा कि संस्कृत बोलने से डायबिटीज और कॉलेस्ट्रॉल कम होता है.

लोकसभा में विधेयक पर चर्चा हो रही थी. इसी दौरान चर्चा में भाग लेते हुए भाजपा के गणेश सिंह ने दावा किया कि अमेरिका आधारित एक शिक्षण संस्थान के अनुसंधान के अनुसार रोजाना संस्कृत भाषा बोलने से तंत्रिका तंत्र मजबूत होता है और डायबिटीज व कॉलेस्ट्रॉल कम होता है.

उन्होंने कहा कि अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के एक अनुसंधान के अनुसार अगर कम्प्यूटर प्रोग्रामिंग संस्कृत में की जाए तो यह अधिक सुगम हो जाएगी. विधेयक पर चर्चा में हस्तक्षेप करते हुए केंद्रीय मंत्री प्रताप सारंगी ने संस्कृत में अपनी बात रखी.

उन्होंने कहा कि द्रमुक के मित्र संस्कृत को लेकर जो कह रहे हैं, उनसे कहना चाहता हूं कि संस्कृत से तमिल या किसी भी भाषा का नुकसान नहीं होने वाला है. संस्कृत एक समावेशी भाषा है और दुनिया कई भाषाओं से इसका संबंध है.

सिंह ने कहा कि, विचार किया जा रहा है देश की तीन संस्कृत विश्वविद्यालयों को परिवर्तित करके संस्कृत केंद्रीय विश्वविद्यालयों की स्थापना की जाएगी. यह तीन विचाराधीन विश्वविद्यालय हैं, राष्ट्रीय संस्कृत संस्थान, नई दिल्ली स्थित श्री लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय संस्कृत विद्यापीठ और तिरुपति स्थित राष्ट्रीय संस्कृत विद्यापीठ.