दो दिन मनेगी श्रीकृष्ण जन्माष्टमी, 14 साल बाद एक साथ होंगे तीन संयोग

इस बार जन्माष्टमी पर ग्रह गोचरों का महासंयोग वरदान साबित होगा. इस तिथि पर 14 वर्षों के बाद छत्र, सौभाग्य सुंदरी और श्रीवत्स योग का संयोग बन रहा है.

रोहिणी नक्षत्र में जन्माष्टमी का माहौल और तैयारियां जोरों-शोरों पर है. जन्माष्टमी व्रत 23 अगस्त को है और कृष्णाष्टमी व्रत मुहूर्त 24 अगस्त को है. इस मौके पर कई मंदिर कमेटी और संस्थाएं जन्माष्टमी को खास तरीके से मनाने में जुट गई हैं.

इस बार जन्माष्टमी पर ग्रह गोचरों का महासंयोग वरदान साबित होगा. इस तिथि पर 14 वर्षों के बाद छत्र, सौभाग्य सुंदरी और श्रीवत्स योग का संयोग बन रहा है, जोकि व्रत और पूजा-पाठ करने वालों के लिए लाभकारी होगा. वहीं इस दिन सूर्य देव भी अपनी सिंह राशि में रहेंगे.

इस साल श्रीकृष्ण जन्माष्टमी कब है? व्रत कब करना है? जैसे सवाल लोगों के दिमाग में घर किए हुए हैं. अलग-अलग पंचांग में इसे लेकर भेद हैं. किसी पंचांग में 23 अगस्त तो किसी में 24 अगस्त को जन्माष्टमी की तिथि बताई गई है. बता दें कि श्रीकृष्ण का जन्म रोहिणी नक्षत्र में अष्टमी तिथि को हुआ था. ये दोनों योग 23 अगस्त को रहेंगे. वहीं शैव संप्रदाय के लोग 23 अगस्त और वैष्णव उपासक 24 अगस्त को जन्माष्टमी मनाएंगे.

भगवान श्रीकृष्ण की प्राण प्रतिष्ठा के लिए रात 12.10 बजे का मुहूर्त श्रेष्ठ बताया गया है. मध्य रात्रि में अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र दोनों के संयोग से जन्मोत्सव मनाया जाएगा.

मथुरा में होगा भव्य उत्सव

, दो दिन मनेगी श्रीकृष्ण जन्माष्टमी, 14 साल बाद एक साथ होंगे तीन संयोग

मथुरा में इस बार जनमाष्टमी का उत्सव पूरी भव्यता के साथ आठ दिनों तक मनाया जाएगा. जश्न की शुरुआत 17 अगस्त से होगी, जो जनमाष्टमी के एक दिन बाद 25 अगस्त तक चलेगा.

इस बार उत्सव में इंडोनेशिया, मलेशिया के अंतर्राष्ट्रीय कलाकारों के साथ असम, मणिपुर और गुजरात के कलाकार भी प्रस्तुति देंगे. इस दौरान कर्नाटक, गुजरात, मध्य प्रदेश और बिहार के 1000 से ज्यादा लोक कलाकार भी विभिन्न कार्यक्रमों में अपनी प्रस्तुति देंगे.

आठ दिवसीय इस आयोजन के मुख्य आर्कषण में नई दिल्ली स्थित श्रीराम भारतीय कला केंद्र के कलाकारों द्वारा प्रस्तुत की जाने वाली ‘कृष्ण लीला’ भी शामिल है.

समारोह में भगवान कृष्ण के जीवन पर आधारित फिल्में और लेजर शो दिखाए जाएंगे. मथुरा और वृंदावन के सभी मंदिरों को आठ दिनों के इस उत्सव के लिए अच्छी तरह से सजाया जाएगा. आयोजन में स्कूली बच्चों द्वारा श्री कृष्ण की झांकियां भी प्रस्तुत की जाएंगी.

ये भी पढ़ें- PoK से भारत में कैसे आतंक फैलाता है पाकिस्तान, जानने के लिए देखें ये वीडियो