जम्‍मू और श्रीनगर एयरपोर्ट की सिक्‍योरिटी CISF को, इस वजह से जल्‍द होगी तैनाती

अभी इन दोनों एयरपोर्ट्स की सिक्‍योरिटी CRPF और जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस मिलकर करते हैं. ऑर्डर के मुताबिक, 31 जनवरी तक दोनों एयरपोर्ट्स CISF को हैंडओवर किए जाने हैं.

जम्‍मू और श्रीनगर एयरपोर्ट को तत्‍काल सेंट्रल इंडस्ट्रियल सिक्‍योरिटी फोर्स (CISF) के हवाले कर दिया गया है. एक सरकारी आदेश में कहा गया है कि 31 जनवरी तक दोनों एयरपोर्ट्स CISF को हैंडओवर कर दिए जाएं. अभी इन दोनों एयरपोर्ट्स की सिक्‍योरिटी CRPF और जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस मिलकर करते हैं. CISF देश की राष्‍ट्रीय फोर्स है जो इस वक्‍त देश के 61 एयरपोर्ट्स की सिक्‍योरिटी में लगी है.

यह फैसला DSP देवेंदर सिंह की गिरफ्तारी के बाद हुआ है. सिंह एयरपोर्ट सिक्‍योरिटी के लिए जिम्‍मेदार थे. सिंह को कुलगाम जिले से शनिवार को अरेस्‍ट किया गया. उसके साथ हिज्‍बुल मुजाहिदीन के दो आतंकी और एक आतंकियों के लिए काम करने वाला एक वकील भी पकड़ा गया.

केंद्र सरकार ने पिछले साल फैसला किया था कि जम्‍मू, श्रीनगर और लेह एयरपोर्ट की सिक्‍योरिटी CISF के हवाले कर दी जाएगी. ऐसा इसलिए भी जरूरी था क्‍योंकि तीनों एयरपोर्ट रणनीतिक और सामरिक दृष्टि से बेहद संवेदनशील हैं. हालांकि यह योजना ठंड खत्‍म होने के बाद अमल में लाई जानी थी मगर DSP के अरेस्‍ट ने सरकार को पहले ही ऐसा करने पर मजबूर कर दिया.

ये भी पढ़ें

जम्‍मू-कश्‍मीर में खुलेंगी सिर्फ 153 वेबसाइट्स, सोशल मीडिया और न्‍यूज पर बैन बरकरार