Article 370 पर सुनवाई के दौरान मौजूद नहीं थे SG, सुप्रीम कोर्ट ने जताया सख्त ऐतराज

बता दें कि कश्‍मीर टाइम्‍स की एडिटर अनुराधा भसीन और कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कश्मीर में लंबे समय से लगी पाबंदी के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की थी.

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद भी लगी पाबंदियों को चुनौती देने वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को सुनवाई हुई. हालांकि सुनवाई के लिए अदालत में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता उपस्थित नहीं थे. जिसको लेकर सुप्रीम कोर्ट ने कड़ी आपत्ति ज़ाहिर की है. उन्होंने कहा कि वो कोर्ट में मौजूद क्यों नहीं है?

जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट को बताया गया कि सॉलिसिटर जनरल कोर्ट नंबर 3 में किसी अन्य मामले में दलील दी रहे हैं.

पिछली सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को नोटिस जारी कर अस्‍पतालों में इंटरनेट सेवाओं की बहाली की मांग को लेकर दाखिल याचिकाओं पर जवाब मांगा था.

बता दें कि कश्‍मीर टाइम्‍स की एडिटर अनुराधा भसीन और कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कश्मीर में लंबे समय से लगी पाबंदी के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की थी.

इन याचिकाओं में राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू करने की वैधता के साथ विभिन्न प्रतिबंधों को चुनौती दी गई है. सभी अस्‍पतालों और चिकित्‍सा संस्‍थानों में इंटरनेट एवं लैंडलाइन टेलीफोन सेवाओं की बहाली को लेकर सुप्रीम कोर्ट से दखल देने की मांग की है.