चिदंबरम को नहीं मिली फौरी राहत, SC ने कहा- CJI के पास जाकर लीजिए सुनवाई की इजाजत

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि आप सीजेआई के पास जाइये और सुनवाई के लिए इजाजत लीजिए.

आईएनएक्स मीडिया घोटाले में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम की अग्रिम जमानत याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में बुधवार को सुनवाई हुई. जस्टिस रमन्ना ने कहा कि मामले के बारे में बताइये. सिब्बल ने कहा हमें गिरफ्तारी से राहत चाहिए. कोर्ट ने कहा कि आप सीजेआई के पास जाइये और सुनवाई के लिए इजाजत लीजिए. इसके बाद सुनवाई खत्‍म हो गई.

‘हाई कोर्ट ने अपील का भी समय नहीं दिया’
कपिल सिब्बल ने पी चिदंबरम का मामला जस्टिस एन वी रमना के सामने मेंशन किया और गिरफ्तारी पर रोक की लगाने की मांग की. सिब्बल ने कहा कि हमें गिरफ्तारी का डर है. हमारी याचिका सुन कीजिए. हाई कोर्ट ने अपील का भी समय नहीं दिया, गिरफ्तारी से फिलहाल राहत मिले.

सिब्बल ने आगे कहा कि चिदंबरम राज्य सभा के सदस्य हैं, उनके भागने की कोई आशंका नहीं है. उन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ करने की कोई जरूरत नहीं है. उन्हें न्याय के हित में अंतरिम के तहत सरंक्षण दिया जाए.

सॉलिसिटर जनरल ने जाहिर की आपत्ति
सीबीआई की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने मांग पर आपत्ति जाहिर की. उन्होंने कहा कि इनपर सीबीआई और ED के केस दर्ज हैं. गिरफ्तारी पर रोक नहीं लगाई जा सकती.

जस्टिस रमना ने कहा कि आपके मामले को हम सीजेआई को प्रेषित कर रहे हैं. वहां अपनी मांग रखियेगा. CJI तय करेंगे कि कब और कौन सुनवाई करेगा. फिलहाल कोर्ट ने गिरफ्तारी पर रोक नहीं लगाई.

CJI ने तुरंत सुनवाई से किया इनकार
चिदंबरम के वकील ने इस मामले को चीफ जस्टिस के सामने तुरंत सुनवाई के लिए पहले से मेंशन नहीं किया था. चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया ने तुरंत सुनवाई से इनकार करते हुए कहा कि अभी अयोध्या मामला चल रहा है और आप 1:00 बजे दोपहर में इस मामले में गुजारिश करिए.

साफ है कि अब सीजेआई तय करेंगे कि इस मामले में कौन सी पीठ सुनवाई करें. चिदंबरम की ओर से वकील सीबीआई के समक्ष पीठ तय करने की गुजारिश करेंगे. इस प्रकार से चिदंबरम के लिए एक के बाद एक मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं.

ये भी पढ़ें-

LIVE: कहां हैं चिदंबरम? ढूंढ रही ED-CBI, सुप्रीम कोर्ट से पूर्व वित्‍तमंत्री को राहत नहीं

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर का निधन, लंबे समय से चल रहे थे बीमार

बोरिस जॉनसन ने पीएम मोदी से की बात, कश्‍मीर पर US के बाद अब ब्रिटेन भी भारत के साथ