Covid-19 मरीजों से मोटी रकम वसूल रहे प्राइवेट हॉस्पिटल, Supreme Court ने केंद्र से मांगा जवाब

याचिकाकर्ता अविषेक गोयनका ने सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) से कहा कि निजी अस्पताल कोविड-19 (Covid-19) रोगियों से अत्याधिक शुल्क ले रहे हैं, वो भी ऐसे समय पर जब देश महामारी से जूझ रहा है.
covid-19 patients paying huge amount, Covid-19 मरीजों से मोटी रकम वसूल रहे प्राइवेट हॉस्पिटल, Supreme Court ने केंद्र से मांगा जवाब

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने कोविड-19 (Covid-19) के मरीजों के इलाज में निजी अस्पतालों द्वारा भारी शुल्क वसूलने के खिलाफ दायर जनहित याचिका पर केंद्र सरकार (Central Government) से जवाब तलब किया है. एक सप्ताह में सरकार को अदालत को निजी अस्पतालों के शुल्क निर्धारण के मुद्दे पर जवाब देना है.

याचिकाकर्ता अविषेक गोयनका ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि निजी अस्पताल कोविड-19 रोगियों से अत्याधिक शुल्क ले रहे हैं, वो भी ऐसे समय पर जब देश महामारी से जूझ रहा है. ऐसे में कोरोनावायरस (Coronavirus) से संक्रमित मरीजों और उनके तीमारदारों को निजी अस्पतालों के रवैये के कारण परेशानियां झेलनी पड़ रही हैं.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

जस्टिस अशोक भूषण कि अध्यक्षता वाली बेंच ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता को कोविड के मरीजों के इलाज के लिए निजी अस्पतालों द्वारा वसूले जाने वाले शुल्क पर ऊपरी सीमा लगाने के लिए केंद्र सरकार से प्रतिक्रिया लेकर जवाब देने को कहा है.

इसी तरह के एक मामले में CJI एसए बोबडे़ की अध्यक्षता वाली पीठ ने केंद्र से पूछा था कि क्या निजी/धर्मार्थ अस्पतालों, जिन्हें सरकार से भूमि मुफ्त मिली है, क्या उनसे कोविड रोगियों का मुफ्त में इलाज करने के लिए कहा जा सकता है. इस पर केंद्र ने एक हलफनामा दायर कर कहा है कि निजी अस्पतालों को कोविड के इलाज के लिए मुफ्त में वैधानिक शक्ति नहीं है.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts