Ayodhya Verdict: भारत की PAK को दो टूक- आंतरिक मामले में गैरजरूरी बयान न दे

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने पाकिस्तान के विदेश मंत्री द्वारा अयोध्या फैसले को लेकर दिए गए बयान का जवाब दिया है.

भारत ने अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर पाकिस्तान की प्रतिक्रिया को गैर-जरूरी बताते हुए खारिज कर दिया. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, ‘हम सिविल मैटर पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर पाकिस्तान की अनुचित और निराधार बयान को खारिज करते हैं, जो सिविल मैटर भारत का आंतरिक मामला है.’

विदेश मंत्रालय ने कहा, ‘यह कानून के नियमों और सभी धर्मों के समान आदर पर आधारित है, यह अवधारणा उनके (पाक) चरित्र का हिस्सा नहीं है. इसलिए, पाकिस्तान की समझ की कमी आश्चर्य की बात नहीं है, इसलिए नफरत फैलाने की मंशा से हमारे आंतरिक मामले में पाकिस्तान द्वारा तर्कहीन बयान देने की हम निंदा करते हैं.’

दरअसल, पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने करतारपुर गलियारा खोले जाने के दिन अयोध्या मामले में आए फैसले पर सवाल उठाते हुए कहा कि वह इस तरह के खुशी के मौके पर दिखाए गई ‘असंवेदनशीलता’ से ‘बेहद दुखी’ हैं. ‘डॉन न्यूज टीवी’ ने कुरैशी के हवाले से कहा, ‘क्या इसको थोड़े दिन टाला नहीं जा सकता था?

सुप्रीम कोर्ट ने सुनाया फैसला

सुप्रीम कोर्ट ने सबसे बड़े फैसले में अयोध्या की विवादित जमीन पर रामलला विराजमान का हक माना है. जबकि मुस्लिम पक्ष को अयोध्या में ही 5 एकड़ जमीन देने का आदेश दिया गया है. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली 5 जजों की विशेष बेंच ने सर्वसम्मति से यह फैसला शनिवार को सुनाया.

ये भी पढ़ें-

‘अयोध्या केस’, 40 दिन सुनवाई, 45 मिनट में फैसला सुनाने वाले 5 जजों की ऐतिहासिक तस्वीर

72 साल की अरदास पूरी, खुला करतारपुर कॉरिडोर, देखें तस्वीरें