बेटियों का बेटों के बराबर ही अपने पिता की संपत्ति पर हक, SC ने कहा- बेटी हमेशा बेटी ही रहती है

जस्टिस अरुण मिश्रा की अध्यक्षता वाली तीन जजों की बेंच ने कहा, “बेटियों को बेटों के समान अधिकार दिया जाना चाहिए. बेटी जीवन भर बेटी ही रहती है. बेटी आजीवन हमवारिस ही रहेगी. चाहे उसके पिता जीवित हों या नहीं. ”
Supreme court verdict Daughters have Equal right, बेटियों का बेटों के बराबर ही अपने पिता की संपत्ति पर हक, SC ने कहा- बेटी हमेशा बेटी ही रहती है

सुप्रीम कोर्ट (SC) ने मंगलवार को एक महत्वपूर्ण फैसला दिया कि बेटियों (Daughters) का भी अपने पिता की संपत्ति पर उतना ही हक है, जितना कि बेटे (Son) का, भले ही उनके पिता की मौत उत्तराधिकार (संशोधन) अधिनियम 2005 लागू होने से पहले हुई हो.

“बेटी हमेशा बेटी रहती है”

जस्टिस अरुण मिश्रा की अध्यक्षता वाली तीन जजों की बेंच ने कहा, “बेटियों को बेटों के समान अधिकार दिया जाना चाहिए. बेटी जीवन भर बेटी ही रहती है. बेटी आजीवन हमवारिस ही रहेगी. चाहे उसके पिता जीवित हों या नहीं. ”

कानून में क्या हुआ था बदलाव?

दरअसल 5 सितंबर 2005 को संसद ने अविभाजित हिंदू परिवार के उत्तराधिकार अधिनियम में संशोधन किया था. जिसके तहत बेटियों को पैतृक संपत्ति (Parental Property) में बराबर का हिस्सेदार माना जाएगा. वहीं कोर्ट ने साफ कर दिया कि 9 सितंबर 2005 को यह संशोधित कानून लागू होने से पहल भी अगर किसी व्यक्ति की मौत हो गई और उसकी संपत्ति का बंटवारा बाद में हो रहा है, तो भी उसकी बेटी को बेटे के बराबर का हक मिलेगा.

बेटी के मरने के बाद उसके बच्चे भी ठोक सकते हैं दावा

इतना ही नहीं कोर्ट ने यह भी कहा कि अगर बेटी की मौत 9 सितंबर, 2005 से पहले हो जाए तो भी पिता की पैतृक संपत्ति में उसका हक बना रहता है. यानी कि अगर बेटी के बच्चे चाहें तो वे अपने नाना की पैतृक संपत्ति में हिस्सेदारी के लिए दावा ठोक सकते हैं.

सुप्रीम कोर्ट के दो अलग-अलग फैसले

वहीं इससे पहले दिल्ली हाईकोर्ट ने हिंदू उत्तराधिकार अधिनियम, 1956 की धारा 6 की व्याख्या के संबंध में विचार किया था और 2005 के हिंदू उत्तराधिकार (संशोधन) अधिनियम द्वारा संशोधन मामले में सुप्रीम कोर्ट के दो अलग-अलग फैसलों का मुद्दा उठाया था. इसके बाद मामले को सुप्रीम कोर्ट के तीन जजों के पास भेजा गया.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts