लोकसभा में सुप्रिया सुले ने क्‍यों की सीतारमण की तारीफ? पढ़ें, विवादों के बीच आया ये बेहद खास बयान

संसद में मानसून सत्र के दौरान एक तरफ जहां पक्ष और विपक्ष का टकराव मर्यादा तोड़ रहा है वहीं ऐसे में एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले ने खुले दिल से सरकार की तारीफ की है.

संसद में मानसून सत्र के दौरान एक तरफ जहां पक्ष और विपक्ष का टकराव मर्यादा तोड़ रहा है वहीं ऐसे में एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले ने खुले दिल से सरकार की तारीफ की है. नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) भले ही केंद्र में व महाराष्ट्र में भाजपा सरकार की विरोधी हो मगर सोमवार को संसद में एनसीपी की सांसद सुप्रिया सुले (Supriya Sule) ने वित्त मंत्री सीतारमण (Nirmala Sitharaman) व उनके मंत्रालय के कामकाज की खूब तारीफ की.

सोमवार को लोकसभा में चर्चा के दौरान सांसद सुप्रिया सुले ने कहा कि कोरोना के चलते पूरी दुनिया एक असाधारण मुश्किल वक्त से गुजर रही है. लेकिन मैं कहना चाहूंगी कि इस क​ठिन समय में भी एक मंत्रालय है जो अन्य सभी विभागों से बेहतर काम कर रहा है और वह वित्त मंत्रालय है.

सोमवार को दिवाला संशोधन विधेयक पर चर्चा के दौरान लोकसभा में सुप्रिया सुले ने कहा कि उनकी भाजपा से काफी असहमितयां हैं लेकिन मैं वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण और उनके वित्त राज्यमंत्री की सराहना करना चाहूंगी. ये वे दो लोग हैं जो लगातार बिलों के साथ आते हैं और उन चीजों को ठीक करने की कोशिश भी करते हैं जिन्हें वास्तव में तेजी दिखाते हुए ठीक करने की आवश्यकता होती है. एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले ने सोमवार को लोकसभा में पेश हुए दिवाला संशोधन विधेयक का समर्थन किया.

उन्होंने कहा, मैं बिल का समर्थन करती हूं, यह समय की जरूरत है. हालांकि उन्होंने सवाल किया कि वित्त मंत्री ने कहा था कि बिल में एक विशेष नियम होगा जो सीमा-पार के मामलों में यह सुनिश्चित करेगा कि सभी भारतीय निवेशक सुरक्षित हैं, यह कैसे होगा?

सुले ने सवाल किया कि कई कंपनियां हैं जो बंद हो रही हैं, उनका क्या होगा और जेट एयरवेज एयर इंडिया से अलग क्यों है? सुप्रिया सुले ने कहा कि ऐसे समय में यह विधेयक स्वागत योग्य है। महामारी के समय हमें दबाव झेल रहीं कंपनियों को उबारना होगा. चर्चा के बाद केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सुझाव देने और विधेयक पर सरकार के साथ जुड़ने की इच्छा के लिए सदन का धन्यवाद किया.

संसद ने दिवाला और शोधन अक्षमता संहिता दूसरा संशोधन विधेयक को मंजूरी दी

संसद ने सोमवार को ‘दिवाला और शोधन अक्षमता संहिता (दूसरा संशोधन) विधेयक, 2020’ को मंजूरी दे दी. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि दिवाला एवं शोधन अक्षमता संहिता (आईबीसी) के तहत कर्ज भुगतान में चूक करने वाली कंपनियों तथा व्यक्तिगत गारंटी देने वालों के खिलाफ साथ-साथ दिवाला कार्रवाई चल सकती है.

राज्यसभा ने इस विधेयक को कुछ दिन पहले मंजूरी दी थी. सोमवार को लोकसभा ने भी विधेयक को मंजूरी दे दी. सरकार आईबीसी में संशोधन के लिए जून में अध्यादेश लेकर आई थी. इसके तहत यह प्रावधान किया गया था कि कोरोना वायरस महामारी की वजह से 25 मार्च से छह महीने तक कोई नई दिवाला कार्रवाई शुरू नहीं की जाएगी.

देश में कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए 25 मार्च को ही लॉकडाउन लगाया गया था. लोकसभा में विधेयक पर चर्चा का जवाब देते हुए वित्त मंत्री सीतारमण ने स्पष्ट किया कि 25 मार्च से पहले कर्ज भुगतान में चूक करने वाली कंपनियों के खिलाफ दिवाला प्रक्रिया के तहत कार्रवाई जारी रहेगी. उन्होंने कहा कि इस संशोधन से ऐसी कंपनियों को राहत नहीं मिलेगी.

Related Posts