दिग्विजय की हार के बाद मिर्ची बाबा ने मांगी जलसमाधि की इजाजत, डीएम ने किया इनकार

बाबा वैराग्यानंद ने 16 जून को अनुराधा नक्षत्र चतुर्दशी के दिन दोपहर 2 बजकर 11 मिनट पर समाधि लेने का ऐलान किया है. उन्होंने कलेक्टर से समाधि के लिए स्थान मांगा है.

भोपाल: कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह के लोकसभा चुनाव हारने पर जिंदा समाधि लेने का संकल्प करने वाले स्वामी वैराग्यानंद गिरी एक बार फिर से मीडिया की सुर्खियों में आए हैं. वैराग्यानंद ने इस बार भोपाल कलेक्टर से समाधि लेने की अनुमति मांगी है. वैराग्यानंद ने 16 जून को अनुराधा नक्षत्र चतुर्दशी के दिन दोपहर 2 बजकर 11 मिनट पर समाधि लेने का ऐलान किया है. उन्होंने कलेक्टर से समाधि के लिए स्थान मांगा है.

इस मामले में ADM भोपाल ने डीआईजी को चिट्ठी लिखी है. इसके मुताबिक वैराग्यानंद गिरी को समाधि लेने की अनुमति नहीं मिली है. एडीएम ने डीआईजी भोपाल से आग्रह किया है कि वैराग्यानंद की जान माल की सुरक्षा के लिए आवश्यक कार्रवाई की जाए.

“…उसी कुण्ड में जिंदा समाधि ले लूंगा”
वैराग्यानंद जी महाराज ने लोकसभा चुनाव के दौरान दिग्विजय सिंह की जीत के लिए साढ़े 5 क्विंटल मिर्च का यज्ञ किया था. यज्ञ सफल नहीं होने के सवाल पर वैराग्यानंद महाराज ने टीवी 9 भारतवर्ष से कहा था कि “मैंने संकल्प लिया है, भारत के संन्यासी का संकल्प कभी निष्फल नहीं होता है. मेरा संकल्प है कि दिग्विजय के लिए दिग्विजय यज्ञ करने जा रहा हूं. साढ़े 5 क्विंटल का मिर्ची यज्ञ. मेरा प्रण है कि अगर दिग्विजय को सफलता हासिल नहीं होती है तो मैं उसी कुण्ड में उसी समय जिंदा समाधि ले लूंगा. और मुझे संशय इसलिए नहीं है क्योंकि मुझे पता है कि यज्ञ सफल होगा.”

Swami Vairagyanand, दिग्विजय की हार के बाद मिर्ची बाबा ने मांगी जलसमाधि की इजाजत, डीएम ने किया इनकार

मिर्ची बाबा को ढूंढ रही थी जनता
दिग्विजय सिंह को भोपाल से भारतीय जनता पार्टी (BJP) की प्रत्याशी प्रज्ञा ठाकुर ने 3,64,822 वोटों से हरा दिया था. चुनाव परिणाम आने के बाद से बाबा वैराग्यानंद जी महाराज का समाधि लेने की बात कहने वाला वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हुआ था. लोग बाबा को ढूंढ रहे थे. वैराग्यानंद जी महाराज को उनके संकल्प की याद दिला रहे थे लेकिन बाबा का कुछ अता-पता नहीं चल रहा था. बाबा कहीं अंडरग्राउंड हो गए थे. वहीं, निरंजनी अखाड़े ने वैराग्यानंद को महामंडलेश्वर पद से तो हटा दिया था, साथ ही अखाड़े से भी बर्खास्त कर दिया था.

वायरल ऑडियो में संकल्प से हटे थे पीछे
इस बीच बाबा से जुड़ा सोशल मीडिया पर एक ऑडियो वायरल हुआ था. इसमें कथित तौर पर भोपाल का एक शख्स बाबा को फोन करके ये पूछ रहा है कि वो समाधि कब ले रहे हैं. इस ऑडियो में बाबा कहते हैं कि उस शख्स के पास उनका ठेका नहीं है जो वह ऐसे पूछ रहा है. इसे लेकर सोशल मीडिया यूजर्स ने बाबा को खूब ट्रोल किया था. वैराग्यानंद जी महाराज के लिए कई सारे मीम्स बनाए गए थे लेकिन बाबा सामने नहीं आए.

ये भी पढ़ें-

कांग्रेस को राज्यसभा चुनावों में गड़बड़ी का अंदेशा, शाह-स्मृति की सीटों के लिए रखी ये मांग

दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी होने का दावा करने वाली BJP, फिर चलाएगी सदस्यता अभियान

क्राइस्टचर्च आतंकी हमले के आरोपी ब्रेंटन टैरंट ने अदालत में दी दोषी न होने की दलील