पाक पत्रकारों ने पूछा कब होगी दोनों देशों की बातचीत, अकबरुद्दीन ने कहा लीजिए आपसे करता हूं शुरुआत

बैठक खत्म होने के बाद सैयद अकबरुद्दीन पत्रकारों से मुखातिब हुए. इस दौरान केवल भारत के प्रतिनिधि ने ही मीडिया का सामना किया.

नई दिल्ली: Article 370 को समाप्त किए जाने के बाद पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान चैन की सांस नहीं ले रहा. पाक ने विश्व के तमाम देशों से कश्मीर मसले पर हस्तक्षेप करने का आग्रह किया लेकिन हर जगह उसको मुंह की खानी पड़ी. इसके बाद पाकिस्तान ने अपना रोना सबसे घनिष्ठ सहयोगी चीन से रोया. चीन ने भी दोस्ती निभाई और यूएनएसी में कश्मीर मुद्दे पर बैठक बुलाई लेकिन यहां भी जीत भारत की हुई और पाकिस्तान को बेइज्जत होना पड़ा. यूएन में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने पाकिस्तान के पत्रकारों को ऐसा जवाब दिया कि सबके होश उड़ गए.

बैठक खत्म होने के बाद सैयद अकबरुद्दीन पत्रकारों से मुखातिब हुए. इस दौरान केवल भारत के प्रतिनिधि ने ही मीडिया का सामना किया. इस दौरान चीन और पाकिस्तान बिना जवाब दिए हुए वहां से चलते बने. सैयद अकबरुद्दीन से एक पाकिस्तानी पत्रकार ने सवाल किया कि भारत पाकिस्तान के साथ बातचीत की शुरूआत कब करेगा?

सैयद अकबरुद्दीन ने बिना कुछ सोचे ही मंच से आगे आए तो तीन पाकिस्तानी पत्रकारों से हाथ मिलाएं. इस दौरान सैयद अकबरुद्दीन ने कहा कि पाकिस्तान से डॉयलॉग हो गया. यूएन में भारत के स्थायी प्रतिनिधि की इस अदा को देखकर हर कोई उनकी तारीफ करने लगा.

प्रेस कॉन्फ्रेंस में जवाब देते हुए भारत के राजदूत ने साफ किया कि लोकतंत्र में आतंकवाद की कोई जगह नहीं है. पाकिस्तान से बातचीत के सवाल पर उन्होंने कहा कि अगर वह आतंक को खत्म करते हैं तो हम बात करने के लिए तैयार हैं.

UN में भारत के राजदूत सैयद अकबरुद्दीन ने कहा कि कश्मीर पूरी तरह से भारत का अंदरूनी मामला है. उन्होंने कहा कि जेहाद की बात करते हुए पाकिस्तान हिंसा फैला रहा है. उन्होंने साफ किया कि हमारे फैसलों का असर किसी और देश पर नहीं पड़ा. अकबरुद्दीन ने कहा कि भारत-पाकिस्तान के बीच हम आज भी शिमला समझौते पर अडिग हैं.

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक के बाद UN में भारत के राजदूत अकबरुद्दीन ने कहा कि कश्मीर पर दूसरे पक्ष को दखल देने की कोई जरूरत नहीं है. उन्होंने कहा कि 370 हटाना हमारा आंतरिक मामला है. कश्मीर के विकास के लिए आर्टिकल 370 हटाया गया है. उन्होंने बताया कि धीरे-धीरे कश्मीर से सारे प्रतिबंध हटा रहे हैं.