दिल्ली का पानी पीने लायक नहीं, राम विलास पासवान ने दी जानकारी; DJB बोला क्वालिटी में दिक्कत नहीं

दिल्ली में अलग-अलग जगहों से घरों में सप्लाई होने वाले पानी के 11 सैंपलों की जांच की गई थी, लेकिन जांच में पाया गया कि ये पीने लायक नहीं है.
Delhi tap water fails to meet BIS test, दिल्ली का पानी पीने लायक नहीं, राम विलास पासवान ने दी जानकारी; DJB बोला क्वालिटी में दिक्कत नहीं

दिल्लीवालों के लिए बुरी ख़बर. एक जांच में पाया गया है कि दिल्ली में नलके का पानी पीने लायक नहीं है. केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) रिपोर्ट का हवाला देते हुए यह बात कही है.

दरअसल दिल्ली में अलग-अलग जगहों से घरों में सप्लाई होने वाले पानी के 11 सैंपलों की जांच की गई थी, लेकिन जांच में पाया गया कि ये पीने लायक नहीं है.

वहीं दिल्ली जल बोर्ड का दावा है कि सितंबर में पानी के 12,483 सैंप लिए गए, लेकिन उनमें से सिर्फ 217 सैंपल ही फेल हुए. केंद्रीय मंत्री ने ने पत्रकारों से कहा कि केंद्र सरकार घरों में नलों के जरिए सप्लाई किए जाने वाले पेयजल के लिए बीआईएस द्वारा तय क्वॉलिटी को जरूरी बनाने को लेकर जल्द ही विचार विमर्श की प्रक्रिया शुरू करेगी.

यह काम दिल्ली से शुरू होकर राज्यों की राजधानियों और 100 स्मार्ट शहरों में किया जाएगा.

पिछले हफ्ते भी पासवान ने दिल्ली में घरों में सप्लाई होने वाले पानी की गुणवत्ता को लेकर सवाल उठाए थे.

दिल्ली जल बोर्ड (DJB) का कहना है कि दिल्ली में पीने के पानी की क्वॉलिटी को लेकर समस्या नहीं है. कुछ जगहों पर लोगों के घरों की अंदरूनी पाइपलाइन में लीकेज की वजह से गंदा पानी आता है.

बता दें कि DJB पानी में टीडीसी और अन्य प्रदूषक तत्वों की जांच करता है. 1 से 23 सितंबर के बीच पानी के 12483 सैंपल लिए गए और जांच में सिर्फ 217 सैंपल ही फेल मिले हैं.

DJB प्रवक्ता के अनुसार, पानी की दिक्कत ज्यादातर पुरानी कॉलोनियों में है, क्योंकि ये लोग अपने घरों की पुरानी पाइपलाइन नहीं बदलते. कुछ जगहों पर पाइपलाइन में लीकेज की समस्या है, जो ठीक होता है. कभी कभार सिविक वर्क की वजह से लाइनें टूट जाती हैं तो पानी में गंदगी मिक्स हो जाती है. कुछ दूसरी वजह भी होती हैं लेकिन पानी की सप्लाई ज्यादातर क्षेत्रों में एक दम सही है.

Related Posts