मरीज को MRI मशीन में डालकर भूल गया स्टाफ, सांस टूटने लगी तो खुद निकले बाहर

रमेश ने बाहर निकलने के लिेए काफी हाथ-पैर चलाए जिससे बेल्ट टूट गई और जैसे-तैसे बाहर आ पाए.
MRI मशीन, मरीज को MRI मशीन में डालकर भूल गया स्टाफ, सांस टूटने लगी तो खुद निकले बाहर

पंचकूला सेक्टर-6 के जनरल अस्पताल में चल रहे एमआरआई (MRI) एंड सिटी स्कैन सेंटर में लापरवाही का मामला सामने आया है. यहां एक मरीज को एमआरआई मशीन में डालकर भूल गए.

किसी ने बाहर नहीं निकाला

मरीज का नाम राम मेहर है. 50 साल के राम मेहर को MRI मशीन में डालने के बाद वहां स्टाफ के किसी भी व्यक्ति ने उन पर ध्यान नहीं दिया और भूल गए. उनको किसी ने बाहर नहीं निकाला.

जैसे-तैसे बाहर आ पाए

रमेश ने बाहर निकलने के लिेए काफी हाथ-पैर चलाए जिससे बेल्ट टूट गई और जैसे-तैसे बाहर आ पाए. पीड़ित ने MRI और सिटी स्कैन सेंटर के कर्मचारियों पर गंभीर आरोप लगाए हैं.

स्वास्थ्य मंत्री से की शिकायत

रमेश मेहर ने हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज से इस मामले की शिकायत की है. पीड़ित ने डीजी हेल्थ डॉ. सूरजभान कंबोज से भी शिकायत की है. पीड़ित ने अपनी शिकायत में लिखा है कि अगर वो 30 सेकंड और बाहर नहीं आता तो उसकी मौत हो जाती.

सेंटर इंचार्ज ने दी सफाई

सेंटर इंचार्ज अमित खोखर ने बताया मैंने टेक्नीशियन से बात की है, पेशेंट का 20 मिनट का स्कैन था, टेक्नीशियन को लास्ट 3 मिनट का सीक्वेंस लेना था, लास्ट के 2 मिनट रह गए थे.

मरीज को पैनिक क्रिएट हुआ और वह हिलने लग गया था. उन्हें हिलने के लिए मना किया था. टेक्नीशियन दूसरे सिस्टम में नोट्स चढ़ा रहा था, जब 1 मिनट रह गया था तो टेक्नीशियन ने देखा मरीज आधा बाहर आ गया था. टेक्नीशियन ने ही मरीज को बाहर निकाला.

ये भी पढ़ें-

‘साउथ दिल्‍ली की आंटियां कहकर की बदसलूकी, यही नहीं मेरी तरफ पैर कर चाटने को भी बोला’, केस

मुंबई: सैलरी नहीं दी तो पुराने बॉस पर किया हमला, चाकुओं से गोदकर ले ली जान

Related Posts