गौतम गंभीर के पास दो वोटर आईडी कार्ड मामले में 13 मई को आएगा फ़ैसला

आतिशी ने दावा किया था कि दो जगहों के वोटर आईडी कार्ड रखना जुर्म है. नॉमिनेशन दायर करते समय उम्मीदवार शपथ लेता है कि एक से ज्यादा वोटर आईडी कार्ड नहीं रख सकता है.

नई दिल्ली: पूर्वी दिल्ली लोकसभा सीट से आम आदमी पार्टी उम्मीदवार आतिशी मार्लिना द्वारा बीजेपी प्रत्याशी गौतम गंभीर के ख़िलाफ़ दायर केस पर कोर्ट 13 मई को फ़ैसला सुनाएगा.

दरअसल आतिशी मर्लिना ने गौतम गंभीर पर दो वोटर कार्ड रखने का आरोप लगाया था और इसी मामले में केस दायर कर उन्हें अयोग्य घोषित करने की मांग की थी. तीस हज़ारी कोर्ट ने सोमवार को इस मामले में सुनवाई करते हुए कहा कि कोर्ट ने अपना फ़ैसला सुरक्षित रख लिया है. फ़ैसला 13 मई को सुनाया जाएगा.

आतिशी ने आरोप लगाया था कि गौतम गंभीर के पास करोलबाग और राजेंदर नगर इलाके के  वोटर आईडी कार्ड हैं. आतिशी ने यह कहा कि चुनाव में गलत जानकारी देना आपराधिक मामला है, इस पर एक साल की जेल हो सकती है.  रिप्रेजेटेंशन ऑफ पीपल एक्ट के मुताबिक एक शख्स एक ही जगह का वोटर आईडी कार्ड रख सकता है.

केस की सुनवाई करते हुए जज विप्लव डबास ने साक्ष्य से पूर्व तलब करने को लेकर अपना आदेश सुरक्षित रख लिया है, कोर्ट 13 म‌ई को अपना फैसला सुनाएगा.