तेलंगाना में प्रवासी मजदूरों को 12 किलो चावल और 500 रुपये देगी सरकार, सीएम KCR का ऐलान

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के.चंद्रशेखर राव (KCR) ने प्रवासी मजदूरों से कहा कि उनको अभी तेलंगाना छोड़कर जाने की जरूरत नहीं है. उनको कोई दिक्कत नहीं होगी.
KCR

कोरोना वायरस (Coronavirus) की वजह से केंद्र सरकार द्वारा देश भर में लॉकडाउन (lockdown)  किया गया. इसके बाद जिस तरह देश भर में प्रवासी मजदूरों का अपने गांव की तरफ पलायन हो रहा है, ये देखते हुए तेलंगाना के मुख्यमंत्री के.चंद्रशेखर राव (KCR) ने प्नवासी मजदूरों से वादा किया है.

मुख्यमंत्री केसीआर ने प्रवासी मजदूरों से कहा कि उनको अभी तेलंगाना छोड़कर जाने की जरूरत नहीं है. उनको कोई दिक्कत नहीं होगी. तेलंगाना सरकार (Telangana Government) ने प्रवासी मजदूर (Migrant Workers) परिवार के प्रत्येक व्यक्ति को 500 रुपए और 12 किलो चावल देने की घोषणा की है. साथ ही उन्हें राज्य के विकास का प्रतिनिधि मानते हुए अपने परिवार की तरह देखने का वादा किया है.

मुख्यमंत्री केसीआर ने कहा कि राज्य में कोई भी प्रवासी मजदूर भूखे, प्यासे नहीं रहेंगे. चाहे वे देश के किसी भी कोने से क्यों न हो. उनका ख्याल रखना हमारा जिम्मेदारी है. उनको अपना परिवार की तरह देखेंगे, वे तेलंगाना के विकास के प्रतिनिधि हैं.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

मुख्यमंत्री केसीआर ने कहा कि प्रवासी मजदूरों को प्रति व्यक्ति 12 किलो चावल और 500 रुपए दिए जाएंगे. अगर किसी मजदूर के परिवार में चार लोग हैं तो 2000 रुपये दिए जाएंगे. अगर वे चावल नहीं खाते हैं तो आटा दिया जाएगा. भोजन, पानी और स्वास्थ्य सेवा का ख्याल रखा जाएगा और रहने की भी व्यवस्था की जाएगी. साथ ही कहा गया है कि जरूरत पड़े तो और ज्यादा खर्च करेंगे.

मुख्यमंत्री केसीआर ने कहा कि सर्वे के बाद पता चला कि राज्य में कुल प्रवासी मजदूरों की 12,436 टीमें हैं जिसमें करीब 3,35,000 मजदूर हैं. वे ज्यादातर बिहार, ओडिशा, झारखंड और तमिलनाडु राज्य के हैं. अधिकांश मजदूर रंगारेड्डी, मेडचल और हैदराबाद जिले में काम करते हैं. कुछ लोग खम्मम के ग्रेनाइड खान में और कुछ लोग रामगुंडम में काम करते हैं.

Related Posts