जम्मू में शख्स की हत्या के बाद सांप्रदायिक तनाव, परिवार का दावा- गो तस्करी के शक में मारी गोली

जम्मू में एक शख्स की गोली मारकर हत्या कर दी गई. परिवार ने इसका आरोप गो रक्षकों पर लगाया है. हालांकि, पुलिस प्रशासन ने हत्या के पीछे गो रक्षा को खारिज किया है.
, जम्मू में शख्स की हत्या के बाद सांप्रदायिक तनाव, परिवार का दावा- गो तस्करी के शक में मारी गोली

श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर के डोडा जिले के भद्रवाह में एक शख्स की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी, जिसके बाद गुरुवार सुबह सांप्रदायिक हिंसा भड़क उठी. पीड़ित परिवार ने दावा किया कि उसे मवेशी तस्करी में शामिल होने के संदेह पर मार दिया गया था. हालांकि, डोडा जिला प्रशासन ने हत्या के पीछे गो रक्षा को खारिज किया है.

सूत्रों के मुताबिक, भद्रवाह के किला मोहल्ला में रहने वाला नसीम अहमद शाह (50) गुरुवार दोपहर दो बजे के करीब बस्ती गांव से दो लोगों के साथ पैदल अपने घर जा रहा था, तभी  नल्थी ब्रिज पर गोली मारकर उसकी हत्या कर दी गई.

नसीम के साथ घटना पर मौजूद दो लोगों में से एक याकिर हुसैन के हवाले से सूत्रों ने बताया, “जब वो लोग नल्थी पुल के पास पहुंचे, तो उन्होंने देखा कि कुछ लोग झाड़ियों के पीछे छिपे हैं. इन लोगों ने कथित तौर पर उन्हें गाली देना शुरू कर दिया और उन पर पशु तस्कर होने का आरोप भी लगाया.”

नसीम के साथ गए लोगों में से एक ने टॉर्च जलाकर दिखाया कि वो खच्चरों को ले जा रहे हैं न कि गायों को. लेकिन किसी ने झाड़ियों से में से गोली चला दी, जिससे नसीम की मौत हो गई.  हुसैन और दूसरा शख्स वहां से जान बचाकर किला मोहल्ला पहुंचने में सफल रहे.

ये भी पढ़ें: अमेरिका की शादियों से प्रभावित हैं गोवा के विधायक, एक पार्टी में नहीं टिकते : नितिन गडकरी

बाद में, किला मोहल्ले के निवासियों ने नल्थी पुल पर विरोध प्रदर्शन किया. आरोपियों की गिरफ्तारी होने तक उन्होंने नसीम का शव लेने से भी इनकार कर दिया. लगभग चार घंटे तक विरोध प्रदर्शन जारी रहा, और आखिरकार पुलिस और सुरक्षा बलों द्वारा सुबह 7 बजे के आसपास घटनास्थल पर पहुंचने और आधा दर्जन से अधिक लोगों को हिरासत में लिए जाने के  बाद शव को वहां से ले जाया गया.

किला मोहल्ले में महिला प्रदर्शनकारियों ने पुलिस स्टेशन को घेर लिया और पथराव शुरू कर दिया. पुलिस और अर्धसैनिक बलों ने आंसूगैस के गोले दागे और हवा में कुछ चेतावनी वाले शॉट दागे. प्रदर्शनकारियों के मुस्लिम बहुल इलाके सेरी बाजार की ओर जाने से स्थति और बिगड़ गई. उन्होंने लगभग एक दर्जन वाहनों को क्षतिग्रस्त कर दिया और दूसरे समुदाय के घरों पर पथराव किया.

प्रशासन ने तब सेना को बुलाकर कर्फ्यू लगावा दिया. जिला प्रशासन ने इसके बाद दोनों समुदायों के प्रमुख लोगों की बैठक बुलाई.  इस बीच, IG जम्मू जोन, एम के सिन्हा ने न्यूज एजेंसी को बताया कि दो संदिग्धों को गिरफ्तार किया गया है, वहीं पांच अन्य को हिरासत में लिया गया है. उन्होंने बताया कि गोली चलाने के पीछे के कारण की जांच की जा रही है.

Related Posts