पुलिसवालों को नहीं, भ्रष्ट नेताओं को मारें आतंकी: सत्यपाल मलिक

सत्यपाल मलिक ने कहा कि भ्रष्ट नेता और नौकरशाह ही राज्य को लूट रहे हैं, इसलिए आतंकियों को इनकी हत्या करनी चाहिए, ना कि पुलिसवालों की और आम नागरिकों की.

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने रविवार को एक विवादित बयान दिया है. उन्होंने कहा कि आतंकियों को पुलिसवालों की जगह भ्रष्ट राजनेताओं और नौकरशाहों की हत्या करनी चाहिए.

करगिल में भाषण के दौरान मलिक ने कहा कि भ्रष्ट नेता और नौकरशाह ही राज्य को लूट रहे हैं, इसलिए आतंकियों को इनकी हत्या करनी चाहिए, ना कि पुलिसवालों की और आम नागरिकों की.

करगिल में आयोजित ‘करगिल-लद्दाख पर्यटन महोत्सव-2019’ का उद्घाटन करते हुए राज्यपाल ने कहा, ‘ये लड़के जो बंदूक लिए फिजूल में अपने लोगें को मार रहे हैं. PSOs और SDOs को मारते हैं. क्यूं मार रहे हो इनको? उन्हें मारो जिन्होंने तुम्हारा मुल्क लूटा है, जिन्होंने कश्मीर की सारी दौलत लूटी है. इनमें से भी कोई मारा है अभी? बंदूक से कुछ हासिल नहीं होगा.’

उन्होंने कहा, “हमारा अनुमान है कि इस समय 125 विदेशी आतंकी समेत 250 आतंकी मौजूद हैं. मुठभेड़ों में विदेशी आतंकियों को मारने में दो दिन का समय लगता है जबकि स्थानीय आतंकियों को सिर्फ दो घंटे का वक्त लगता है. एलटीटीई कभी दुनिया में सबसे ताकतवर आतंकी संगठन था. आज वह कहां है?”

उनके इस बयान पर जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने ट्वीट कर लिखा, ”यह शख्स जो एक जिम्मेदार व्यक्ति हैं, एक संवैधानिक पद पर हैं, आतंकियों से कह रहे हैं कि जो भ्रष्ट नेता हैं उसे मार डालो. ऐसे शख्स को गैरकानूनी हत्याओं और कंगारू अदालतों के बारे में बात करने से पहले पता होना चाहिए कि उनके बारे में दिल्ली में क्या राय है.”

इससे पहले सत्यपाल मलिक का नाम विवादों से तब जुड़ा था, जब मलिक ने अचानक कहा था कि आतंकियों की मौत पर भी उन्हें दुख होता है. मलिक ने कहा था, ‘पुलिस अपना काम बहुत अच्छे से कर रही है लेकिन अगर एक भी जान जाती है, चाहे वह जान आतंकी की भी क्यों न हो तो मुझे तकलीफ होती है. इससे पहले भी सत्यपाल मलिक के कई बयान और फैसले चर्चा का विषय बन चुके हैं.

ये भी पढ़ें-

कश्मीरी पंडितों के पुनर्वास के लिए प्रभावी नीति बना रही है अमित शाह की टीम

कश्मीर में आंदोलन चलाने वालों से बातचीत संभव, रक्षा मंत्री बोले- ‘बैठकर बात करें समस्या क्या है?’