दूसरे सीरो सर्वे की रिपोर्ट: अगस्त तक हर 15 में से एक व्यक्ति था कोरोना संक्रमित

ICMR के दूसरे सीरो सर्वे में एक और चौंकाने वाला खुलासा हुआ है. इसके मुताबिक शहरी क्षेत्रों के मुकाबले ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रमण का खतरा कम है.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 6:40 pm, Tue, 29 September 20

देश में कोरोना महामारी की स्थिति को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और ICMR ने मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इसमें स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण (Rajesh Bhushan) और ICMR के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव ने कोरोना की स्थिति पर जानकारियां दीं.

स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) ने बताया कि भारत में कोरोना वायरस महामारी से ठीक हो चुके मामलों की संख्या 51 लाख के पार हो चुकी है. मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण ने कहा कि यह दुनिया में सबसे ज्यादा रिकवरी है.

यह भी पढ़ें- गठबंधन को जीत मिलेगी तो उपेंद्र कुशवाहा बनेंगे सीएम- मायावती

वहीं ICMR की ओर से दूसरे सीरो सर्वे से पता चला है कि अगस्त तक 10 साल से अधिक की आयु के हर 15 में से एक व्यक्ति कोरोना वायरस से संक्रमित था. स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से भूषण ने कहा कि सीरो सर्वे रिपोर्ट से पता चला है कि देश की एक बड़ी आबादी अभी भी कोरोना वायरस की चपेट में है. देश भर में अब तक सात करोड़ 30 लाख से ज्यादा कोरोना की जांच हो चुकी है. पिछले सप्ताह 77.8 लाख जांच की गई हैं.

क्या कहती है सीरो सर्वे की रिपोर्ट

ICMR के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव ने कहा कि संस्थान की ओर से कराए गए दूसरे सीरो सर्वे की रिपोर्ट के मुताबिक अगस्त 2020 तक 10 साल की आयु से अधिक हर 15 व्यक्तियों में से एक कोरना से संक्रमित होने का अनुमान है.

यह भी पढ़ें- गिलगित-बाल्टिस्तान में चुनाव कराने की तैयारी में पाकिस्तान, भारत ने किया विरोध

उन्होंने कहा कि हमें 5T यानी टेस्ट, ट्रैक, ट्रेस, ट्रीट और टेक्नोलॉजी पर ध्यान देना होगा. सीरो सर्वे की रिपोर्ट के मुताबिक 7.1 व्यस्क आबादी को कोरोना हुआ.

गांवों में कम फैला कोरोना संक्रमण

ICMR के दूसरे सीरो सर्वे में एक और चौंकाने वाला खुलासा हुआ है. इसके मुताबिक शहरी क्षेत्रों के मुकाबले ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रमण का खतरा कम है. शहरी झुग्गी-झोपड़ियों में संक्रमण का खतरा गैर-झुग्गी वाले शहरी इलाकों की तुलना में दोगुना है. वहीं ग्रामीण इलाकों की तुलना में इन शहरी इलाकों में संक्रमण का खतरा चार गुना है.