ये कंधा उस दरिंदे का है जिसने इस गुड़िया के साथ हैवानियत की हदें पार कीं

झारखंड के जमशेदपुर में एक तीन साल की बच्ची से गैंगरेप के बाद निर्मम हत्या का मामला सामने आया है. पुलिस के मुताबिक, दो आरोपियों ने बच्ची को टाटानगर रेलवे स्टेशन से किडनैप करने के बाद इस हैवानियत को अंजाम दिया.

नई दिल्ली: ज़रा इस तस्वीर को ग़ौर से देखिए…ये मासूम बच्ची जिसकी कंधों में सिर रखकर सो रही है वो इसका पिता नहीं है, वो इसका चाचा नहीं है, वो इसका मामा भी नहीं है, वो इसका कोई भी नहीं है…अब आप सोच रहे होंगे न ये कौन है. ये वो दरिंदा है जिसने इस मासूम बच्ची के साथ रेप किया फिर इसकी जान ले ली. इस बच्ची को तो पता ही नहीं होगा कि रेप शब्द होता क्या है? तोतली आवाज से नन्ही गुड़िया ने अंकल तो बोला होगा लेकिन इस दरिंदे का दिल एकबार को भी नहीं पसीजा. खैर मैं सवाल ही क्या कर रहा हूं. इस दरिंदे के दिल होगा तो ही पसीजेगा न.

झारखंड के जमशेदपुर में एक तीन साल की बच्ची से गैंगरेप के बाद निर्मम हत्या का मामला सामने आया है. पुलिस के मुताबिक, दो आरोपियों ने बच्ची को टाटानगर रेलवे स्टेशन से किडनैप करने के बाद इस हैवानियत को अंजाम दिया. पुलिस ने मंगलवार रात को जमशेदपुर टेल्को स्टेशन इलाके से मासूम का धड़ बरामद किया.

पुलिस ने बताया है कि इस मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है जिनमें से दो मुख्य आरोपी हैं. पुलिस अधीक्षक ने कहा कि लड़की का सिर ढूंढ़ने के लिए स्निफर डॉग्स लगाए गए हैं. पुलिस के मुताबिक, ये घटना 26 जुलाई की है.

गैंगरेप की कीमत एक लाख रुपये
गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले ही झारखंड के खूंटी जिले के अडकी थाना क्षेत्र में एक विवाहिता के साथ हुए गैंगरेप मामले ने सुर्खियां बटोरी थी. यहां पर तीन लोगों के द्वारा किये गये गैंगरेप की कीमत ग्रामसभा ने एक लाख रुपये लगा कर सबको भौंचक कर दिया था. इतना ही नहीं ग्रामसभा द्वारा आरोपियों को एक लाख रुपये का हर्जाना पीड़िता को देने और घटना की जानकारी पुलिस को नहीं देने का भी फरमान सुनाया था.

इस मामले में दो लोगों ने खूंटी एसपी से लिखित शिकायत कर दुष्कर्मियों को गिरफ्तार करने की मांग की. शिकायत के बाद ही ये मामला सामने आया. आवेदन के अनुसार, गांव के ही तीन व्यक्तियों ने एक महिला के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया है. इस संबंध में एसपी ने कहा कि दो व्यक्तियों ने आवेदन सौंपा है. थाना प्रभारी को जांच का निर्देश दिया गया है.

ये भी पढ़ें-

सरकार की BCCI को फटकार- आपके पास नहीं है खिलाड़ियों के डोप टेस्ट का अधिकार

पहले से ही कोमा में हैं CCD फाउंडर वीजी सिद्धार्थ के पिता, जब जानेंगे नहीं रहा बेटा तब होगा क्या?

अल कायदा का पोस्टर बॉय था हमजा, तैयार कर रहा था आतंक की यंग ब्रिगेड