इस साल 22 बच्चों को मिलेगा राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार

इस साल ICCW ने पांच विशेष पुरस्कार- ICCW मरक डेय अवार्ड, ICCW ध्रुव अवार्ड, ICCW अभिमन्यु अवार्ड, ICCW प्रहलाद अवार्ड और ICCW श्रवण अवार्ड की घोषणा की है.
National Bravery Award, इस साल 22 बच्चों को मिलेगा राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार

भारतीय बाल कल्याण परिषद (ICCW) ने राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार-2019 के लिए 12 राज्यों से 10 लड़कियों और 12 लड़कों सहित कुल 22 बच्चों को चुना है. यात्रा करते वक्त बस में लगी आग से 40 लोगों की जान बचाने के लिए आदित्य (15) को प्रतिष्ठित भारत पुरस्कार दिया जाएगा. इस हादसे में जैसे ही यात्रियों को निकाला गया, वाहन के डीजल टैंक में विस्फोट हो गया और उसमें आग लग गई.

इस साल ICCW ने पांच विशेष पुरस्कार- ICCW मरक डेय अवार्ड, ICCW ध्रुव अवार्ड, ICCW अभिमन्यु अवार्ड, ICCW प्रहलाद अवार्ड और ICCW श्रवण अवार्ड की घोषणा की है. ICCW मरक डेय पुरस्कार अपने चार साल के भाई को तेंदुए से बचाने के लिए उत्तराखंड की 10 वर्षीय राखी को दिया गया है. इस घटना में उसे कई चोटें भी आई थीं.

ICCW ध्रुव पुरस्कार के लिए मगरमच्छों से भरी नदी में एक नाव के पलट जाने और हादसे में 12 लोगों को डूबने से बचाने के लिए ओडिशा की 16 साल की पूर्णिमा गिरि और 15 साल की सविता गिरि को चुना गया है. ICCW अभिमन्यु पुरस्कार समुद्र से अपने तीन दोस्तों की जान बचाने के लिए मुहम्मद मुशीन ई.सी. को मरणोपरांत दिया गया है. इस प्रक्रिया में उसकी मौत हो गई थी.

अपनी सहेली को ट्रेन हादसे से जान बचाने के लिए 10 साल की स्मृति बदरा को ICCW प्रहलाद पुरस्कार के लिए चुना गया है. इस हादसे में उसकी सहेली का पैर कट गया था. ICCW श्रवण पुरस्कार जम्मू एवं कश्मीर में घर पर हुई बमबारी से अपनी बहनों और माता-पिता को सुरक्षित बाहर निकालने और उनकी जान बचाने के लिए सरताज मोहिउद्दीन मुगल को दिया गया है.

कमल कृष्ण दास (असम), कांति पैकरा (छत्तीसगढ़), भमेश्वरी निर्मलकर (छत्तीसगढ़), अलिका (हिमाचल प्रदेश), आरती किरण शेट (कर्नाटक), वेंकटेश (कर्नाटक), मुदासिर अशरफ (जम्मू एवं कश्मीर), फतह पी.के. (केरल), जेन सदावर्ते (महाराष्ट्र), मास्टर आकाश मनचिंद्र खिलारे (महाराष्ट्र),लौरेम्बम याइकोम्बा मंगांग (मणिपुर), एवरब्लूम के .नोंग्रम (मेघालय), मास्टर लल्लिसांगा (मिजोरम), कैरोलिन मालस्वामटलुन्गी (मिजोरम) और मास्टर वनलहरिअतृंगा (मिजोरम) अन्य बच्चे हैं, जिन्हें इस पुरस्कार के लिए चुना गया है.

ये भी पढ़ें: पाकिस्तान में रोटी का संकट, ढाई हजार तंदूरी दुकानें बंद

Related Posts