शाहीन बाग और पार्क सर्कस पर प्रदर्शन कर रहे लोग बांग्लादेशी हैं- राहुल सिन्हा

दक्षिण दिनाजपुर जिले के बुनियादपुर में संशोधित नागरिकता कानून के समर्थन में आयोजित एक रैली में घोष ने कहा कि शरणार्थियों को अब उनकी नागरिकता मिलेगी जिसकी वे वर्षों से मांग करते आ रहे हैं.

  • TV9.com
  • Publish Date - 3:22 am, Mon, 27 January 20

कोलकाता: पश्चिम बंगाल भाजपा के दो नेताओं ने नागरिकता संशोधन कानून को लेकर चल रहे विरोध प्रदर्शनों पर अलग-अलग बात कही. पश्चिम बंगाल भाजपा के अध्यक्ष दिलीप घोष ने रविवार को कहा कि सभी शरणार्थियों को सीएए के तहत नागरिकता दी जाएगी.

जबकि उन्हीं की पार्टी के नेता राहुल सिन्हा ने यह आरोप लगाकर विवाद खड़ा कर दिया कि पार्क सर्कस और शाहीन बाग में प्रदर्शन कर रहे लोग ‘बांग्लादेशी मुसलमान’ हैं.

दक्षिण दिनाजपुर जिले के बुनियादपुर में संशोधित नागरिकता कानून के समर्थन में आयोजित एक रैली में घोष ने कहा कि शरणार्थियों को अब उनकी नागरिकता मिलेगी जिसकी वे वर्षों से मांग करते आ रहे हैं.

उन्होंने दावा किया कि तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ता लोगों को धमकी दे रहे हैं कि एनआरसी शुरू होने पर वे उसमें हिस्सा नहीं लें. उन्होंने कहा कि लेकिन फॉर्म तो भरना ही होगा, चाहे ऑफलाइन भरे या ऑनलाइन.

भाजपा के राष्ट्रीय सचिव राहुल सिन्हा ने यहां पार्क सर्कस ग्राउंड और दिल्ली के शाहीन बाग में सीएए, एनआसी और प्रस्तावित एनपीआर के विरोध में जुटे लोगों को ‘बांग्लादेशी मुसलमान’ करार दिया.

उन्होंने यहां कहा, ”पार्क सर्कस और शाहीन बाग में बैठे लोग बांग्लादेशी मुसलमान हैं.” उन्होंने आरोप लगाया कि ये लोग अवैधरूप से भारत में घुस आए और अब वे समृद्ध जीवन जी रहे हैं. सिन्हा ने कहा, ”जो लोग देश को तोड़ना चाहते हैं, वे शाहीन बाग से बोल रहे हैं।”