मुखर्जी नगर पिटाई मामले में देर रात तक चला बवाल, अकाली विधायक से धक्कामुक्की

टेम्पो चालक का कहना है कि पुलिस ने उसे बर्बरता से मारा. दिल्ली पुलिस के जवान ने उनकी गाड़ी को रोका और उनके साथ बदसलूकी की, गाली-गलौज भी किया.

नई दिल्ली: दिल्ली के मुखर्जी नगर में ऑटो ड्राइवर सरबजीत की पिटाई को लेकर शुरू हुआ बवाल थमने का नाम नहीं रहा है. सिख सुमदाय के प्रदर्शनकारी सोमवार रात को तीन बजे तक थाने के सामने डटे रहे. ये लोग ड्राइवर सरबजीत के खिलाफ हत्या के प्रयास की लगाई गई धारा 307 को हटाए जाने की मांग कर रहे हैं. साथ ही इनका कहना है कि वीडियो में नजर आ रहे सभी पुलिस कर्मियों को सस्पेंड किया जाए.

इससे पहले शिरोमणी अकाली दल के विधायक मनजिंदर सिंह सिरसा चार लोगों के साथ थाने में बातचीत करके आये थे. वो लोगों को समझा रहे थे कि मामले की जांच निष्पक्ष होगी लेकिन उत्तेजित भीड़ सिरसा पर भड़क उठी. भीड़ ने सिरसा के साथ धक्कामुक्की की. मामले को शांत करने में काफी मशक्कत करनी पड़ी.

CM केजरीवाल ने जांच की मांग की 
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस घटना की जांच की मांग की है. केजरीवाल ने ट्वीट करके लिखा, “मुखर्जी नगर में दिल्ली पुलिस की बर्बरता बहुत निंदनीय और अनुचित है. मैं पूरी घटना की निष्पक्ष जांच और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग करता हूं. दिल्ली के लोगों की सुरक्षा जिसके जिम्मे हो, उन्हें डकैतों में बदलने की अनुमति नहीं दी जा सकती.”

‘दोषियों के खिलाफ हो कड़ी कार्रवाई’

केजरीवाल इस मामले में पीड़ित बुजुर्ग से सोमवार को उसके घर मिलने गए. सरबजीत के घर से निकले केजरीवाल ने कहा कि गृह मंत्री और LG को इस मामले को गंभीरता से लेते हुए दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए. प्रदेश में बढ़ते क्राइम पर देश के गृह मंत्री को सोचना चाहिए और ये जो हादसा हुआ है, वो बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है.

‘ड्राइवर ने पुलिस की गाड़ी को हिट किया और…’
पुलिस के मुताबिक, टेम्पो चालक ने पुलिस की गाड़ी में हिट किया और फिर पुलिस वालों से बहस के बाद चालक ने अपनी कृपाण निकाल ली और पुलिस कर्मी के सिर पर अटैक किया जिससे वो घायल हो गया. इसके बाद पुलिस के मुताबिक चालक का हेल्पर जो उसका बेटा है, उसने दो पुलिस वालों पर गाड़ी चढ़ा दी.

‘पुलिस वालों ने की बदसलूकी व गाली-गलौज’
वहीं, टेम्पो चालक सरबजीत सिंह का कहना है कि पुलिस ने उसे बर्बरता से मारा. दिल्ली पुलिस के जवान ने उनकी गाड़ी को रोका और उनके साथ बदसलूकी की, गाली-गलौज भी किया. हालांकि, इस गाली-गलौज का हमारी तरफ से कोई एक्शन नहीं हुआ. मैं और मेरा बेटा लगातार हाथ जोड़ रहे थे. लेकिन जब पुलिस वाले उन्हें बेरहमी से मार रहे थे तो अपने बचाव में उसने कृपाण निकाली.

तीन पुलिसकर्मी हुए सस्पेंड
पुलिस द्वारा सिख बाप-बेटे को पीटने और थाने ले जाने के बाद इलाके के सिख समुदाय के लोग सड़कों पर आ गए. और पुलिस पार्टी पर लाठी-डंडों से हमला कर दिया, गाड़ियों पर पथराव भी किया गया. पुलिस ने कड़ी मशक्कत के बाद इलाके में शांति कायम की. हालांकि अभी तक इस मामले में तीन पुलिस वालों को सस्पेंड कर दिया गया है.

‘हत्या की कोशिश का मामला हो दर्ज’
गुरुद्वारा सिख प्रबंधक कमेटी से मनजिंदर सिंह सिरसा भी रविवार को मौके पर पहुंचे. उन्होंने सिख की पिटाई और पग के अपमान के कारण पुलिसकर्मियों पर हत्या की कोशिश का मुकद्दमा दर्ज करने की मांग की. घटना स्थल पर काफी देर तक बवाल मचता रहा. भारी तादात में लोग सड़कों पर जमा हो गए थे.

ये भी पढ़ें-

बेन स्टोक्स ने कहा- कोहली की वजह से मुझे डिलीट करना पड़ेगा अपना ट्विटर अकाउंट

IND vs PAK: विश्वकप में भारत ने पाकिस्तान को 89 रन से हराया

आज से शुरू हो रहा 17वीं लोकसभा का पहला सत्र, शपथ लेंगे सांसद