आंध्र प्रदेश: सीएम रिलीफ फंड से 112 करोड़ चुराने की कोशिश, बैंककर्मियों की सतर्कता से टली जालसाजी

दिल्ली, बेंगलुरु, कोलकाता के बैंक (Bank) अधिकारियों को शक हुआ, जिसके बाद उन्होंने बेलगापुड़ी के एसबीआई (SBI) बैंक में फोन किया. बैंक अधिकारियों की सतर्कता से ही सच्चाई सामने आई और धोखाधड़ी पकड़ी जा सकी.

आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) के मुख्यमंत्री रिलीफ फंड से 112 करोड़ रुपए चुराने की कोशिश की गई. ठगों ने चोरी छुपे नकली चेकों से सीएम रिलीफ फंड से रकम निकालने की कोशिश की, बैंकों की सतर्कता की वजह से धोखाधड़ी का भंडाफोड़ हो गया.

दिल्ली, बेंगलुरु, कोलकाता से बैंकों से नकली चेकों द्वारा रकम निकालने की कोशिश की गई. बेंगलुरु सर्किल के मंगलुरु में मूड़बद्री शाखा से 52.65 करोड़ रुपए निकालने की कोशिश की गई, दिल्ली शाखा से 39.85 करोड़ रुपए निकालने की कोशिश की गई,  वहीं ठगों ने कोलकाता सर्किल की मोगराहाट शाखा से चेक के द्वारा 24.65 करोड़ रुपए निकालने की कोशिश की. जैसे ही ठगों ने मुख्यमंत्री रिलीफ फंड में सेंध लगाने की कोशिश की बैंक अधिकारी चौकन्ने हो गए.

सीएम रिलीफ फंड से फर्जी चेक के जरिए बड़ी रकम निकालने की कोशिश

ठगों द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले तीनों चेक विजयवाड़ा के एमजी रोड स्थित बैंक की शाखा के है, और उसपर सीएमआरएफ (CMRF), रेवेन्यू शाखा, सेक्रेटरी टू गवर्नमेंट के स्टांप के ऊपर हस्ताक्षर किया हुआ था. दिल्ली, बेंगलुरु और कोलकाता के तीनों बैंकों के अधिकारियों को शक हुआ,जिसके बाद उन्होंने बेलगापुड़ी के एसबीआई बैंक (SBI Bank) में फोन किया. बैंक अधिकारियों की सतर्कता से ही सच्चाई सामने आई और धोखाधड़ी पकड़ी जा सकी.

बैंककर्मियों की सजगता से टली 112 करोड़ की जालसाजी

चेक से निकाली जाने वाली रकम बहुत बड़ी होने की वजह से तीनों शहरों की बैंकों के अधिकारियों को कुछ शक हुआ और उन्होंने आंध्र प्रदेश के अमरावती स्थित वेलगापुड़ी के एसबीआई (SBI) से संपर्क किया, तब सच्चाई का पता चला, और बड़ी धोखाधड़ी होने से बच गई. हालांकि अभी तक चेक के बदले रकम निकालने बैंकों में गए ठगों की पहचान नहीं हुई है. बैंककर्मियों की शिकायत के बाद पुलिस लगातार इस मामले की जांच कर रही है.

Related Posts