TIME के कवर पेज पर PM मोदी, मैगजीन ने बताया ‘डिवाइडर इन चीफ’

टाइम मैगजीन ने अपने एशिया एडिशन में भारत के लोकसभा चुनाव 2019 पर एक लीड स्टोरी की है. साथ ही पीएम मोदी के पिछले पांच साल के कार्यकाल पर भी विस्तार से लिखा है.

नई दिल्ली: दुनिया भर में मशहूर अमेरिकी मैगजीन ‘टाइम’ ने अपने नए संस्करण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कवर पेज पर तस्वीर छापी है. हालांकि इस तस्वीर के साथ पत्रिका ने जो टाइटल लिखा है उसपर विवाद हो सकता है. पत्रिका ने पीएम मोदी को “India’s Divider in Chief” यानी को ‘भारत को बांटने वालों का सरदार’ बताया है. मैगजीन का यह अंक आगामी 20 मई को जारी किया जाएगा. इससे पहले टाइम ने अपनी वेबसाइट पर इस रिपोर्ट को प्रकाशित किया है.

टाइम मैगजीन ने अपने एशिया एडिशन में भारत के लोकसभा चुनाव 2019 पर एक लीड स्टोरी की है. साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पिछले पांच साल के कार्यकाल पर भी विस्तार से लिखा गया है. पत्रिका ने इसे “Can the World’s Largest Democracy Endure Another Five Years of a Modi Government?” शीर्षक दिया है.

आतिश तासीर नाम के पत्रकार ने लिखा है कि पीएम मोदी कांग्रेस मुक्त भारत की बात करते हैं लेकिन उन्होंने कभी भी हिन्दू-मुसलमानों के बीच भाईचारे की भावना को मजबूत करने के लिए कोई इच्छाशक्ति नहीं दिखाई है.

टाइम के इस लेख के मुताबिक, नरेंद्र मोदी का सत्ता में आना इस बात को दिखाता है कि भारत में जिस उदार संस्कृति की चर्चा की कथित रूप से चर्चा की जाती थी वहां पर दरअसल धार्मिक राष्ट्रवाद, मुसलमानों के खिलाफ भावनाएं और जातिगत कट्टरता पनप रही थी.

इस लेख में तीन तलाक बिल को लेकर भी पीएम मोदी पर निशाना साधा गया है. इसके मुताबिक, भारतीय मुसलमानों को शरिया पर आधारित फैमिली लॉ मानने का अधिकार मिला था. इसमें तलाक देने का उनका तरीका तीन बार तलाक बोलकर तलाक लेना भी शामिल था जिसे नरेंद्र मोदी ने 2018 में एक आदेश जारी कर तीन तलाक को कानूनी अपराध करार दे दिया दिया.

टाइम के इस लेख में 1984 के सिख दंगों और 2002 के गुजरात दंगों की तुलना की गई है. इसके मुताबिक, ये बात सही है कि कांग्रेस के कार्यकाल में 1984 के दंगे हुए थे. लेकिन इस दौरान पार्टी ने खुद को उन्मादी भीड़ से अलग रखा था. वहीं, नरेंद्र मोदी के गुजरात का मुख्यमंत्री रहते 2002 में दंगे हुए. लेकिन मोदी अपनी चुप्पी से ‘दंगाइयों के लिए दोस्त’ साबित हुए.

यह कोई पहली बार नहीं है जब टाइम मैगजीन में नरेंद्र मोदी की आलोचलना की है. साल 2012 में मैगजीन ने अपने एक लेख में नरेंद्र मोदी को एक विवादास्पद, महत्वाकांक्षी और चतुर राजनेता बताया था.

Read Also: ट्वीटर पर भिड़ी कांग्रेस-भाजपा, राहुल गांधी के इस ट्वीट से शुरू हुई बहस