VIDEO: तिरुपति मंदिर में चोरी, भगवान श्री वेंकटेश्वर का मुकुट और अंगूठियां गायब

टीटीडी कार्यकारी अधिकारी ने इस बात की पुष्टि की कि जेवर गायब हैं और जांच के आदेश दे दिए गए हैं.

तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम की कड़ी सुरक्षा वाली तिजोरी से भगवान श्री वेंकटेश्वर का एक चांदी का मुकुट, दो सोने की अंगूठियां और दो सोने के हार गायब हो गए हैं. गौर करने वाली बात यह है कि जेवर गायब होने की बात 2017 में एक ऑडिट में सामने आई थी लेकिन चोरी की बात मंगलवार को टीटीडी ट्रस्ट बोर्ड के एक पूर्व सदस्य ने ऑडिट से जुड़े दस्तावेज जारी कर कही. बताया गया है कि चांदी का मुकुट 2002 में एक अज्ञात श्रद्धालु ने चढ़ाया था.

टीटीडी ट्रस्ट बोर्ड के पूर्व सदस्य और बीजेपी नेता भानुप्रकाश रेड्डी ने मंगलवार को जरूरी दस्तावेज साझा करते हुए दावा किया कि ये जेवर चोरी हो चुके हैं. बाद में टीटीडी कार्यकारी अधिकारी अनिल कुमार सिंघल ने इस बात की पुष्टि की कि जेवर गायब हैं और जांच के आदेश दे दिए गए हैं. हालांकि, उन्होंने इस बात का खंडन किया है कि टीटीडी ने चोरी छिपाने की कोशिश की.

सहायक कार्यकारी अधिकारी (कोषागार) के ऑडिट में यह बात सामने आई थी कि 5.4 किलो का चांदी का मुकुट, सोने की दो अंगूठियां और सोने के दो हार, कुल 6.50 लाख काम सामान गायब था. 18 अगस्त, 2016 से 10 अक्टूबर 2016 तक चले ऑडिट के बाद टीटीडी ने एम श्रीनिवासुलू को जेवर गायब होने का जिम्मेदार ठहराया.

Tirumala Tirupati Devasthanam temple, VIDEO: तिरुपति मंदिर में चोरी, भगवान श्री वेंकटेश्वर का मुकुट और अंगूठियां गायब

श्रीनिवासुलू ने सहायक कार्यकारी अधिकारी के तौर पर टीटीडी के कोषागार की जिम्मेदार 2013 में ली और 2016 तक इस पद पर रहे. सिंघल ने कहा कि कमी होने पर टीटीडी रिकवरी और अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू कर देता है. नवंबर 2018 से टीटीडी श्रीनिवासुलू 25,000 रुपये हर महीने वसूलता है.

टीटीडी ट्रस्ट बोर्ड के पूर्व सदस्य और बीजेपी नेता भानुप्रकाश रेड्डी ने कहा कि, तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम की तिजोरी से 5.4 किलो का चांदी का मुकुट, सोने की दो अंगूठियां और सोने के दो हार, जिसकी कुल कीमत 7.76 लाख रूपये हैं गायब हैं. बता रहे हैं, एक अधिकारी से 7.36 लाख वसूल किये हैं, क्यों वसूल किये हैं? इस पर क्रिमिनल केस क्यों दर्ज नहीं कराया गया. आपलोग किसे बचाना चाहते हैं, इसके पीछे किसका हाथ है, बीजेपी सवाल पूछना चाहती है. एक स्वेत पत्र जारी कीजिये. भगवान श्री वेंकटेश्वर के तिजोरी से कैसे गायब हो सकते हैं?

हालांकि, श्रीनिवासुलू ने ऑडिट में गलती का हवाल देते हुए टीटीडी से दोबारा सामान चेक करने की गुजारिश की है. टीटीडी ने सितंबर में दोबारा जांच करने का फैसला किया है. सिंघल ने कहा, ’15-20 दिन में तस्वीर सामने होगी और नए ऑडिट के आधार पर हम संबंधित अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई करेंगे.’

ये भी पढ़ें- ‘हमारे मंदिर को तोड़ा गया, यह साबित करिये वहां 100-200 साल नमाज पढ़ी गई’