तीस हजारी हिंसा: Lockdown के कारण पूरी नहीं हुई जांच, ज्यूडिशियल कमिशन को मिला 31 दिसंबर तक समय

तीस हजारी कोर्ट परिसर में दिल्ली पुलिस और वकीलों के बीच पार्किंग को लेकर  2 नवंबर 2019 को हिंसक झड़प हुई थी. जिसमें क‌ई पुलिसकर्मियों को गंभीर चोटें आईं और कई वकील भी घायल हुए थे.
Tis Hazari violence, तीस हजारी हिंसा: Lockdown के कारण पूरी नहीं हुई जांच, ज्यूडिशियल कमिशन को मिला 31 दिसंबर तक समय

दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में वकील और पुलिस के बीच हुई हिंसक झड़प के मामले दिल्ली हाई कोर्ट ने मामले की न्यायिक जांच कर रहे ज्यूडिशल कमीशन की जांच की समय सीमा आगे बढ़ा दी है. दिल्ली हाई कोर्ट ने अब 31 दिसंबर तक जांच पूरी करने का समय दिया है. दिल्ली हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश डी एन पटेल और प्रतीक जलान की बेंच ने मामले में सुनवाई करते हुए ज्यूडिशियल कमीशन की जांच अवधि को आगे बढ़ा दिया.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

दरअसल, दिल्ली हाई कोर्ट के रिटायर्ड जज एस पी गर्ग की अगुवाई में जांच कर रहे ज्यूडिशियल कमिशन ने कोर्ट में रिपोर्ट दाखिल कर कहा कि लॉकडाउन की वजह से जांच पूरी नहीं हो पाई है. मामले की जांच के लिए और समय दिया जाए. रिपोर्ट में बताया गया है कि कमिशन अभी तक 124 गवाहों से पूछताछ कर चुका है अभी और लोगों से पूछताछ करनी है.

क्या था मामला ?

तीस हजारी कोर्ट परिसर में दिल्ली पुलिस और वकीलों के बीच पार्किंग को लेकर  2 नवंबर 2019 को हिंसक झड़प हुई थी. जिसमें क‌ई पुलिसकर्मियों को गंभीर चोटें आईं और कई वकील भी घायल हुए थे. हिंसा के लिए एक दूसरे पर आरोप लगाते हुए पुलिस और वकील दोनों तरफ से मुकदमा दर्ज कराया गया था. मामले की निष्पक्ष जांच के लिए हाई कोर्ट ने एक रिटायर्ड जज की अध्यक्षता में ज्यूडिशियल कमिशन बनाकर जांच रिपोर्ट सौंपने के लिए कहा था.

Related Posts