शादी के चलते शपथ नहीं ले पाईं तृणमूल सांसद नुसरत जहां, पढ़ें क्या हैं नियम

टीएमसी सांसद नुसरत जहां ने तुर्की में हिंदू रीति रिवाज से शादी कर ली लेकिन शादी की वजह से शपथ नहीं ले पाई. पढ़ें, क्या कहता है संविधान.

बांग्ला अभिनेत्री और नवनिर्वाचित टीएमसी सांसद नुसरत जहां ने तुर्की के बोडरम शहर में कपड़ा व्यवसायी निखिल जैन से शादी रचाई. हिंदू रीति रिवाज से हुई इस शादी की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं. इससे पहले नुसरत जहां की तस्वीरें संसद के सामने से वायरल हुई थीं. जब उन्होंने पश्चिम बंगाल की बशीरघाट सीट से बीजेपी प्रत्याशी सायंतन बसु को साढ़े तीन लाख वोटों से हराया था. महत्वपूर्ण बात ये है कि शादी के चक्कर में नुसरत जहां संसद में शपथ नहीं ले पाई हैं.

Nusrat Jahan, शादी के चलते शपथ नहीं ले पाईं तृणमूल सांसद नुसरत जहां, पढ़ें क्या हैं नियम

सांसद शपथ न ले पाए तो?

भारतीय संविधान के अनुसार संसद के दोनों सदनों में सांसद को राष्ट्रपति या उसके द्वारा चुने गए प्रतिनिधि के सामने शपथ लेना अनिवार्य है. शपथ में ये बातें आती हैं-

* भारतीय संविधान में सच्ची आस्था व निष्ठा रखना
* भारत की प्रभुता और अखंडता बनाए रखना.
* वफादारी से कर्तव्य का पालन करना.

जब तक ये शपथ नहीं ली जाती तब तक सांसद सदन के किसी अधिवेशन में हिस्सा नहीं ले सकता. न ही मत दे सकता है. संसद के विशेषाधिकारों का इस्तेमाल नहीं कर सकता. बिना शपथ लिए सदस्य के संसद में बैठने पर प्रतिदिन 500 रुपए का जुर्माने का नियम है.

इस नियम के मुताबिक अभी नुसरत जहां जनता की चुनी हुई प्रतिनिधि हैं लेकिन संसद में उनकी बात सुनी जाए, इससे पहले उन्हें शपथ लेनी होगी.