हैदराबाद में नौकरी खोने के डर से कर्मचारी को आया हार्ट अटैक, चली गई जान

बीते 6 दिनों से TSRTC कर्मचारियों की हड़ताल चल रही है, सरकार ने घोषणा की है कि काम पर नहीं आनेवाले कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया जाएगा.
TSRTS, हैदराबाद में नौकरी खोने के डर से कर्मचारी को आया हार्ट अटैक, चली गई जान

तेलंगाना में नौकरी चली जाएगी, इस चिंता से मानसिक रूप से परेशान TSRTC (Telangana State Road Transport Corporation) कर्मी की दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई. संगारेड्डी जिले के रामचंद्रपुराम इलाके के बॉम्बे कॉलोनी में रहने वाला शेख खलील मियां (48),  हैदराबाद के HCU डिपों में TSRTC बस के ड्राइवर के रूप में कार्यरत थे, पिछले 25 साल से खलील मियां आरटीसी में काम कर रहे थे.

बीते छह दिनों से TSRTC कर्मचारियों की हड़ताल चल रही है, सरकार ने घोषणा की है कि काम पर नहीं आनेवाले कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया जाएगा. इस पर खलील मियां मानसिक रूप से परेशान था. जिसकी वजह से गुरूवार को सुबह दिल का दौरा पड़ने से उनकी मौत हो गई.

खलील मियां के बेटे अब्दुल अजीम ने कहा कि उसके पिता आरटीसी के हड़ताल के दौरान, पिछले कुछ दिनों से नौकरी चले जाने के डर से मानसिक रूप से काफी परेशान थे, उनकी पिछले महीने की सैलरी अभी भी नहीं मिली है, जिसकी वजह से उनकी हार्ट अटैक से मौत हो गई. घर में उनके सिवा दूसरा कोई कमाने वाला नहीं है. इसके बाद अजीम ने सरकार से मदद की गुहार लगाई है.

खलील मियां के सहकर्मी और HCU डिपो के यूनियन के प्रधान कार्यदर्शी, अब्दुल हथिख ने बताया कि पिछले 25 साल से आरटीसी में ड्राइवर का काम कर रहा था, मुख्यमंत्री के नौकरी से निकाल देने के घोषणा के बाद से, पिछले दो दिनों से खलील मियां मानसिक रूप से काफी तनाव में थे. आज सुबह 3 बजे करीब उनकी हार्ट अटैक से मौत हो गई, उनकी मौत के लिए राज्य सरकार और मैनेजमेंट ही जिम्मेदार हैं. हथिख ने सरकार या मैनजमेंट को खलील मियां के परिवार को 25 लाख रुपये हर्जाना देने की मांग की है.

TSRTC कर्मचारियों की हड़ताल की आज छठा दिन है, कर्मचारी हड़ताल को बढ़ा रूप देने की कोशिश कर रहे हैं. अक्टूबर के 19 तारीख को राज्य में बंध का आहवाहन कर सकते हैं.

Related Posts