आग की लपटों में दबी मासूम बच्चों की चीखें, आइशा और जुहैब की मौत

आसपास के लोगों ने परिवार के बाकी सदस्यों को बाहर निकाल लिया, लेकिन फर्नीचर मालिक की 6 साल की बेटी आइशा और उनके भांजे जुहैब आग की चपेट में आने से पूरी तरह झुलस गए.

नई दिल्ली:  मंगलवार दोपहर राजधानी दिल्ली के शाहीन बाग इलाके के अबुल फ़ज़ल में एक चार मंजिला इमारत में भयंकर आग लग गई. आग लगने से पूरे इलाके में हड़कंप मच गया. आग की चपेट में आने से 2 मासूम बच्चों की मौत हो गई तो वहीं लाखों का माल जलकर खाक हो गया. आग लगने की वजह शॉर्टसर्किट को माना जा रहा है.

चार मंजिला इमारत में लगी आग इतनी भयंकर थी कि जिसने भी देखा उसके रोंगटे खड़े हो गए. आग की लपटों के बीच मासूमों की चीखें दबकर रह गई. आग तकरीबन दोपहर 1 बजे के आसपास अबुल फजल में बनी चार मंजिला इमारत की पहली मंजिल पर लग गई.

बिल्डिंग के बेसमेंट और ग्राउंड फ्लोर पर फर्नीचर का शोरूम है जिसके मालिक एहसान मलिक है. फर्नीचर शोरूम के ऊपर एहसान मलिक और उनके भाइयों का परिवार भी रहता है. जिस समय आग लगी उस वक्त घरों में परिवार की महिलाएं और बच्चे घर के अंदर मौजूद थे. चश्मदीदों के मुताबिक आग की लपटें इतनी तेज थी कि वहां तक पहुंचना और आग पर काबू पाना मुश्किल था.

आग बढ़ती देख दमकल विभाग की लगभग 5 गाड़ियां मौके पर पहुंची. आसपास के लोगों ने परिवार के बाकी सदस्यों को बाहर निकाल लिया, लेकिन फर्नीचर मालिक की 6 साल की बेटी आइशा और उनके भांजे जुहैब आग की चपेट में आने से पूरी तरह झुलस गए. बताया जा रहा हैं कि आग लगने का बाद बच्चे काफी डर गए थे और वो टेबल की नीचे छुप गए थे.
दोनों मासूम बच्चों को घायल हालत में होली फैमिली अस्पताल में भर्ती कराया गया लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका. फिलहाल आग लगने की असल वजह का पता लगाया जा रहा है.