ISI के लिए जासूसी करते पकड़े गए दो वीजा असिस्‍टेंट को भारत करेगा निष्कासित, तिलमिलाया पाकिस्तान

पाकिस्तान हाई कमिशन के वीजा सेक्शन में काम करने वाले आबिद हुसैन और ताहिर हुसैन को उस समय पकड़ा गया जब वह भारत विरोधी गतिविधि में लिप्त थे.
Two ISI operatives caught in Pakistan High Commission in India, ISI के लिए जासूसी करते पकड़े गए दो वीजा असिस्‍टेंट को भारत करेगा निष्कासित, तिलमिलाया पाकिस्तान

राजधानी दिल्ली में पाकिस्तान हाई कमिशन में दो अधिकारियों को रविवार को भारतीय अधिकारियों ने जासूसी करते हुए पकड़ा है. पाकिस्तान हाई कमिशन के वीजा सेक्शन में काम करने वाले आबिद हुसैन और ताहिर हुसैन को उस समय पकड़ा गया जब वह भारत विरोधी गतिविधि में लिप्त थे.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

जानकारी के मुताबिक ये दोनों ISI के ऑपरेटिव्स हैं और ये दोनों पाकिस्तानी अधिकारी भारत में फर्जी भारतीय पहचान पत्र बनाकर घूमते थे. भारत जल्दी ही 48 घंटों में उन्हें अपने देश वापस भेज सकता है. भारतीय विदेश मंत्रालय उन्हें वापस पाकिस्तान भेजने के लिए पेपर वर्क कर रहा है. पेपरवर्क के बाद उन्हें जल्द पाकिस्तान भेज दिया जाएगा. जानकारी के मुताबिक उन्हें अटारी-वाघा बॉर्डर से वापस भेजा जाएगा.

बरामद हुआ फर्जी आधार कार्ड

पाकिस्तान अधिकारी के फर्जी आधार कार्ड की भी तस्वीर सामने आई है. जो कि पाकिस्तान की मंशा और झूठ को बेनकाब कर रही है. भारतीय अधिकारियों द्वारा आज (रविवार को) करोल बाग इलाके में मारी गई रेड के बाद पाकिस्तानी हाई कमिशन के अधिकारी आबिद हुसैन के पास से फर्जी आधार कार्ड बरामद हुआ. इस आधार कार्ड में आबिद हुसैन की फोटो थी, लेकिन नाम नासीर गोतम लिखा हुआ था. सूत्रों के मुताबिक इनके पास से भारतीय सेना से जुड़े कुछ डॉक्यूमेंट्स भी बरामद हुए हैं.

Two ISI operatives caught in Pakistan High Commission in India, ISI के लिए जासूसी करते पकड़े गए दो वीजा असिस्‍टेंट को भारत करेगा निष्कासित, तिलमिलाया पाकिस्तान

पाकिस्तान ने किया खंडन

हालांकि भारत की इस कार्रवाई पर पाकिस्तान तिलमिला उठा है. पाकिस्तान ने ऐतराज जताते हुए भारतीय कार्रवाई का खंडन किया है. पाकिस्तान ने भारतीय कार्रवाई का खंडन करते हुए कहा कि भारतीय कार्रवाई एक नकारात्मक पूर्व नियोजित और मीडिया अभियान के साथ हुई है, जो लगातार पाकिस्तान विरोधी प्रचार का एक हिस्सा है.

पाकिस्तान द्वारा जारी किए गए बयान के मुताबिक “नई दिल्ली में पाकिस्तानी हाई कमिशन के दो कर्मचारियों को भारतीय अधिकारियों ने आज (31 मई 2020) झूठे और बेबुनियाद आरोपों के बाद उठा लिया. हालांकि, उन्हें हाई कमिशन के हस्तक्षेप पर रिहा कर दिया गया था. हम राजनयिक अधिकारियों को झूठे आरोपों को स्वीकार करने की धमकी देने और दबाव डालने के साथ ही हिरासत और यातना की निंदा करते हैं.”

फिर अलापा कश्मीर राग

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर भारतीय कार्रवाई वियना संधि का उल्लंघन बताया. पाकिस्तान की तिलमिलाहट का नजारा तब पेश हुआ जब उसने इस मुद्दे को भी कश्मीर से जोड़ दिया. पाकिस्तान ने एक बार फिर इस मामले के जरिए कश्मीर राग अलापा. पाकिस्तान ने बयान में कहा कि भारत ने बीजेपी शासित सरकार की आंतरिक और बाहरी मसलों पर हुई विफलता के साथ जम्मू कश्मीर में हो रहे कथित अत्याचार से ध्यान भटकाने के लिए ऐसा कदम उठाया है.

Related Posts