• Home  »  देश   »   देश में कब तक आएगी कोरोनावायरस वैक्सीन, स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने राज्यसभा में बताया

देश में कब तक आएगी कोरोनावायरस वैक्सीन, स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने राज्यसभा में बताया

हर्षवर्धन (Harsh Vardhan) ने कहा, “तीन वैक्सीन कैंडिडेट्स ट्रायल के अलग-अलग चरणों में पहुंच चुकी हैं- चरण 1, चरण 2 और चरण 3. हालांकि वैक्सीन के बनकर तैयार हो जाने के बाद भी हर किसी तक उसे पहुंचाने में समय लगेगा. इसके लिए बड़ी मात्रा में प्रोडक्शन की जरूरत होगी.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 7:09 am, Fri, 18 September 20

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन (Union Health Minister Harsh Vardhan) ने गुरुवार को राज्यसभा (Rajya Sabha) में देश में कोरोनावायरस (Coronavirus) के हालात को लेकर विस्तार से जानकारी दी. उन्होंने कहा कि साल 2021 के शुरुआती दिनों में कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) के बनकर तैयार हो जाने की संभावना है. स्वास्थ्य मंत्री ने यह भी कहा कि सरकार कोविड-19 (Covid-19) की मृत्यु दर को 1.6 फीसदी से घटाकर 1 फीसदी पर लाना चाहती है.

हर्षवर्धन ने कहा, “तीन वैक्सीन कैंडिडेट्स ट्रायल के अलग-अलग चरणों में पहुंच चुकी हैं- चरण 1, चरण 2 और चरण 3. हालांकि वैक्सीन के बनकर तैयार हो जाने के बाद भी हर किसी तक उसे पहुंचाने में समय लगेगा. इसके लिए बड़ी मात्रा में प्रोडक्शन की जरूरत होगी. कोरोना के खिलाफ लड़ाई में यह जरूरी है कि लोग हाथ की साफ-सफाई, मास्क पहनना और सोशल डिस्टेंसिंग जैसी सावधानियों का कड़ाई से पालन करें.”

‘देश में 1700 हुई टेस्टिंग लैब की संख्या’

केंद्रीय मंत्री ने कुछ विपक्षी सदस्यों के उस सवाल का भी जवाब दिया जिसमें कहा गया था कि लॉकडाउन का कोई सकारात्मक असर नहीं पड़ा. हर्षवर्धन ने कहा, “कई एक्सपर्ट्स अपने विश्लेषण में यह बता चुके हैं कि अगर लॉकडाउन नहीं लगाया जाता तो पीड़ितों और मृतकों की संख्या इससे कहीं अधिक हो सकती थी. हम एक टेस्टिंग लैब से 1,700 लैब तक पहुंच गए हैं. देश भर में हमने टेस्टिंग लैब को लोगों की पहुंच तक ला दिया है.”

‘गलत साबित हुए अंतरराष्ट्रीय विशेषज्ञों के अनुमान’ 

कोरोना के खिलाफ देश की मजबूत लड़ाई के बारे में हर्षवर्धन ने राज्यसभा को जानकारी दी. उन्होंने कहा, “जब कोरोना महामारी शुरू हुई थी उस समय कई अंतरराष्ट्रीय विशेषज्ञों ने यह अनुमान लगाया था कि भारत में जुलाई-अगस्त तक पीड़ितों की संख्या 300 मिलियन तक पहुंच सकती है. साथ ही यह भी कहा गया था कि मरने वालों की संख्या 5-6 मिलियन हो जाएगी, लेकिन देखिए कि हकीकत क्या है.”

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कोरोना के खिलाफ देश में रिकवरी रेट 78-79 फीसदी है जोकि दुनिया में सबसे अधिक में से एक है. देश में करीब 50 लाख कोरोना पीड़ित हैं लेकिन एक्टिव मामलों की संख्या 10 लाख ही है.