केंद्रीय मंत्री सदानंद गौड़ा ने क्वारंटीन नहीं होने पर दी सफाई, बोले- पूरे देश में यात्रा की जिम्मेदारी

सरकार के नियमानुसार, उड़ानों (Flights) के जरिए शहर में आने वाले सभी यात्रियों को अपनी पसंद के होटल में या सरकार द्वारा निर्धारित होटल में सात दिनों के लिए संस्थागत क्वारंटीन (quarantine) में जाना अनिवार्य है.

केंद्रीय रसायन और उर्वरक मंत्री सदानंद गौड़ा (DV Sadanand Gaura) ने कर्नाटक में लागू क्वारंटीन (quarantine) के नियमों को दरकिनार कर विवाद को जन्म दे दिया है. वह सोमवार को दिल्ली से एक उड़ान से बेंगलुरू पहुंचे थे. गौड़ा सोमवार को दिल्ली से उड़ान भरने बाद बेंगलुरु पहुंचे. उसके बाद उन्हें हवाईअड्डा परिसर से बाहर निकल कर अपने वाहन की तरफ जाते हुए देखा गया. उनके सह-यात्री आने के बाद की प्रक्रियाओं से गुजरने का इंतजार कर रहे थे, जिसमें सात दिनों के लिए संस्थागत क्वारंटीन शामिल है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

मंत्री का बचाव करते हुए उनके सहयोगियों ने कहा कि गौड़ा का दिल्ली में नियमित रूप से परीक्षण किया गया था, जहां वह पूरे लॉकडाउन (lockdown) अवधि के दौरान रुके हुए थे.

मंत्री डीवी सदानंद गौड़ा ने भी शाम चार बजे प्रस्तावित एक बैठक का जिक्र करते हुए अपने कदम का बचाव किया और कहा कि फार्मास्युटिकल्स मंत्रालय का मंत्री होने के नाते उन्हें पूरे देश में यात्रा करनी है.

मंत्री सोमवार दोपहर केम्पेगौड़ा अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे (केआईए) पर उतरे, जहां वह फेस मास्क उतार कर सीधे अपनी गाड़ी के ओर बढ़ गए.

सरकार के नियमानुसार, उड़ानों द्वारा शहर में आने वाले सभी यात्रियों को अपनी पसंद के होटल में या सरकार द्वारा निर्धारित होटल में सात- दिन के संस्थागत क्वारंटीन के लिए जाना अनिवार्य है.

हालांकि, उन्होंने दावा किया कि वह चाहते तो चार्टर फ्लाइट से बेंगलुरु के लिए उड़ान भर सकते थे, लेकिन उन्होंने ऐसा करना उचित नहीं समझा.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

 

Related Posts