उन्नाव गैंगरेप पीड़िता ने तोड़ा दम, सफदरजंग अस्पताल में ली आखिरी सांस

पीड़िता की हालत देर शाम 8:30 के बाद बेहद खराब होने लगी थी. डॉक्टरों ने दवाई का डोज भी बदला लेकिन पीड़िता को 11.40 पर कार्डियक अरेस्ट आया और पीड़िता की मौत हो गई.

उन्नाव गैंगरेप पीड़िता ने शुक्रवार देर रात को आखिरी सांस ली. पीड़िता राजधानी दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती थी. पीड़िता की हालत बहुत नाजुक थी इसलिए उसे वेंटिलेपर पर रखकर बचाने की हर संभव कोशिश की गई. लेकिन देर रात पीड़िता ने दम तोड़ दिया.

डॉक्टर शलभ कुमार ने बताया कि ”पीड़िता ने 11:40 पर आखिरी सांस ली. पीड़िता की हालत  8.30के बाद बेहद खराब होने लगी थी. डॉक्टरों ने दवाई का डोज भी बदला लेकिन पीड़िता को 11.40 पर कार्डियक अरेस्ट होने से पीड़िता की मौत हो गई.” पीड़िता ने मरने से पहले अपने भाई से कहा था कि मैं जीना चाहती हूं. पीड़िता ने यह भी कहा था कि दोषियों को सख्त से सख्त सजा दी जानी चाहिए.

फिलहाल पीड़िता के शव को पोस्टमॉर्टम रूम में शिफ्ट किया गया है. सूत्रों के मुताबिक मृतका को एरोप्लेन के जरिये लखनऊ ले जाया जाएगा उसके बाद उनके घर उन्नाव ले जाया जाएगा जहां पर उनका दाह संस्कार किया जाएगा. सूत्रों की मानें तो कांग्रेस पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी भी अंतिम संस्कार में शामिल हो सकती हैं.

बता दें कि उत्तर प्रदेश के उन्नाव में 5 दिसंबर की सुबह 20 वर्षीय गैंगरेप पीड़िता को अपराधियों ने आग के हवाले कर दिया था. जली हुई अवस्था में पीड़िता को लखनऊ के अस्पताल ले जाया गया, जहां कई विशेषज्ञों की टीम ने उपचार करने के बाद उसे दिल्ली रेफर करने का फैसला लिया था.

90 फीसदी से ज्यादा जल जाने वाली पीड़िता को ग्रीन कॉरिडोर बनाकर लखनऊ एयरपोर्ट भेजा गया था. जहां से उसे एयर एंबुलेंस के जरिए दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल ले जाया गया था. जहां पर पीड़िता का इलाज चल रहा था.

Related Posts