वंदे भारत मिशन का पहला चरण कामयाब, MEA ने कहा- दूसरे चरण में एक लाख लोगों को लाने की तैयारी

विदेश मंत्रालय (MEA) की तरफ से यह जानकारी दी गई है. एक बयान जारी करते हुए कहा गया कि हम 17 मई-13 जून से VBM के दूसरे चरण में हैं, जिसमें कि गुरुवार शाम 4.00 बजे तक 45,216 भारतीयों को वापस लाया जा चुका है.
Vande Bharat Mission successful, वंदे भारत मिशन का पहला चरण कामयाब, MEA ने कहा- दूसरे चरण में एक लाख लोगों को लाने की तैयारी

कोरोनावायरस (Coronavirus) और लॉकडाउन (Lockdown) के कारण विदेशों में फंसे भारतीय लोगों को लाने के लिए केंद्र सरकार का वंदे भारत मिशन (VBM) इस वक्त पूरे जोरों पर हैं. इसका पहला चरण 7 मई से 16 मई तक सफलतापूर्वक पूरा हो गाया है, जिसके दौरान 16,716 फंसे हुए भारतीय स्वदेश लौट चुके हैं.

विदेश मंत्रालय (MEA) की तरफ से यह जानकारी दी गई है. एक बयान जारी करते हुए कहा गया कि हम 17 मई-13 जून से वंदे भारत मिशन के दूसरे चरण में हैं, जिसमें कि गुरुवार शाम 4.00 बजे तक 45,216 भारतीयों को वापस लाया जा चुका है. इनमें 8,069 प्रवासी कामगार, 7,656 छात्र और 5,107 पेशेवर शामिल हैं. लगभग 5000 भारतीय नेपाल और बांग्लादेश से बॉर्डर के रास्तों से लौट आए हैं. विदेश में फंसे करीब 3,08,200 लोगों ने VBM के तहत भारत वापस आने के लिए रजिस्ट्रेशन किया था.

लोगों को वापस लाने में लगी नौसेना

बयान में बताया गया कि दूसरे चरण के दौरान, 60 देशों से कुल 429 एयर इंडिया उड़ानें (311 अंतर्राष्ट्रीय उड़ानें + 118 फीडर उड़ानें) भारत में उतरने के लिए निर्धारित हैं. भारतीय नौसेना (Indian Navy) ईरान, श्रीलंका और मालदीव में फंसे लोगों को वापस लाने की तैयारी कर रही है.

MEA ने बताया कि हम लैटिन अमेरिका और कैरिबियन, अफ्रीका और यूरोप के कुछ हिस्सों में दूरदराज के स्थानों से फंसे भारतीयों की वापसी में सहायता कर रहे हैं. यह मुख्य रूप से अपने नागरिकों की निकासी के लिए भारत जाने वाले विदेशी वाहकों का लाभ उठाकर किया जा रहा है. हाल ही में पेरू, मैक्सिको, बेलीज, ग्वाटेमाला, होंडुरास, पुर्तगाल और नीदरलैंड में फंसे लगभग 300 भारतीयों को लाया गया था. आगे भी हम ऐसे और विकल्पों की तलाश करेंगे.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

निजी एयरलाइंस भी वंदे भारत मिशने में शामिल

बयान में कहा गया कि निजी एयरलाइंस को अब वंदे भारत मिशन के दूसरे चरण के हिस्से के रूप में शामिल किया गया है. जमीनी सीमाओं के माध्यम से हमारे नागरिकों की वापसी और संचालन के लिए चार्टर्ड उड़ानें भी शुरू हो गई हैं. आने वाले दिनों में चार्टर्ड उड़ानों की अनुमति और क्वारंटीन क्षमता के अधिक कुशल उपयोग के साथ संख्या बढ़ने की उम्मीद है.

अतिरिक्त सचिव स्तर के अधिकारी नियुक्त

विदेश मंत्रालय अपने मिशनों के साथ-साथ विभिन्न हितधारकों- राज्य सरकारों, MHA, MOHFW, MOCA, DMA, एयर इंडिया और भारतीय नौसेना के साथ निकट समन्वय में काम कर रहा है. MEA ने अतिरिक्त सचिव स्तर के अधिकारियों को क्वारंटीन और अन्य लॉजिस्टिक मुद्दों पर राज्य सरकारों के साथ समन्वय बनाने के लिए नियुक्त किया है.

दूसरे चरण में एक लाख लोगों को वापस लेने का लक्ष्य

26 मई को, विदेश मंत्री ने सभी हितधारकों की एक विस्तृत समीक्षा बैठक की थी. बैठक का फोकस वंदे भारत मिशन के पैमाने को सुधारना और इसकी दक्षता को बढ़ाना था. MEA के मताबिक दूसरे चरण के अंत तक 60 देशों से 100,000 यात्रियों को वापस लाने का लक्ष्य रखा जा रहे है. वंदे भारत मिशन के तीसरे चरण की तैयारी अच्छी तरह से चल रही है. MEA Covid-19 नियंत्रण कक्ष में 16 मार्च 2020 से MEA की टीमें 24×7 काम कर रही है. कंट्रोल रूम को 28 मई 2020 को आठ बजे तक 22,500 से अधिक कॉल और 60,000 ईमेल मिले हैं.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts