‘प्‍लीज पैसा वापस ले लो’, बैंकों का सारा पैसा लौटाने को तैयार है विजय माल्‍या

माल्‍या पर भारत में 9,000 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी और मनी-लान्ड्रिंग के आरोप हैं. ट्विटर पर माल्‍या ने CBI पर परेशान करने का आरोप लगाया.

नई दिल्‍ली: भगोड़े कारोबारी विजय माल्‍या ने एक बार फिर बैंकों का पैसा लौटाने का प्रस्‍ताव दिया है. ब्रिटिश हाई कोर्ट द्वारा प्रत्‍यर्पण आदेश के खिलाफ अपील की इजाजत मिलने के बाद माल्‍या ने यह बात रखी. ट्विटर पर माल्‍या ने कोर्ट के आदेश को सराहा और CBI पर परेशान करने का आरोप लगाया. कई ट्वीट्स में माल्‍या ने बैंकों से कहा कि ‘प्‍लीज, पैसा वापस ले लो.’

माल्‍या पर भारत में 9,000 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी और मनी-लान्ड्रिंग के आरोप हैं. उसने किंगफिशर को उधार देने वाले बैंकों को पैसे लौटाने की दोबारा पेशकश करते हुए ट्वीट किया, “मेरे लिए कोर्ट के अच्‍छे फैसले के बावजूद मैं फिर से उन बैंकों को पूरी रकम लौटाने का ऑफर देता हूं जिन्‍होंने किंगफिशर को कर्ज दिया था. प्‍लीज पैसे ले लो. बाकी बची रकम से मैं अपने कर्मचारियों और कर्जदाताओं को भुगतान करना चाहता हूं और जिंदगी में आगे बढ़ना चाहता हूं.”

विजय माल्‍या ने CBI पर भी सवाल खड़े किए. उन्‍होंने लिखा, “मेरा जो माखौल बनाया गया, उसके बाद मैं उन लोगों से ससम्‍मान कहना चाहूंगा कि डिविजिनल बेंच के आज के फैसले को पढ़ें जिसमें CBI द्वारा मुझपर दाखिल प्रथमदृष्‍टया झूठे केस को चुनौती देने की अनुमति मिली है.”

माल्या ने ब्रिटेन के गृह मंत्री साजिद जाविद द्वारा उनके प्रत्यर्पण के आदेश पर हस्ताक्षर करने के खिलाफ हाईकोर्ट में अपील करने की अनुमति मांगी थी.

इससे पहले 5 अप्रैल को किंगफिशर एयरलाइंस के पूर्व प्रमुख 63 वर्षीय माल्या के भारत प्रत्यर्पित होने के खिलाफ दायर याचिका खारिज कर दी गई थी. माल्या ने कोर्ट में अपील की थी कि उसे भारत प्रत्यर्पित न किया जाए.

विजय माल्या ने नए आवेदन पर मौखिक सुनवाई की मांग की थी. जिसके बाद लंदन में रॉयल कोर्ट आफ जस्टिस के प्रशासनिक अदालत खंड की दो जजों की पीठ अप्रैल में दायर इस अपील पर सुनवाई की.

ये भी पढ़ें

‘दाऊद इब्राहिम कराची में छिपा बैठा है’, अमेरिका ने खोल दी पाकिस्‍तान की पोल

मोदी 2.0 का पहला बजट, इन सेक्‍टर्स को तोहफे दे सकती हैं निर्मला सीतारमण