पश्चिम बंगाल में बढ़ रही हैं बीजेपी-टीएमसी कार्यकर्ताओं की हिंसक झड़पें, 13 लोग गंभीर रूप से घायल

केशपुर में शुक्रवार रात बीजेपी और तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच भिड़त में 10 लोग घायल हो गए. दोनों पार्टियों ने हिंसक घटनाओं के लिए एक-दूसरे पर ठीकरा फोड़ा और दोनों तरफ से दावा किया गया कि उनके कार्यकर्ताओं को पीटा गया है.
Violent clashes between BJP-TMC workers in West Bengal, पश्चिम बंगाल में बढ़ रही हैं बीजेपी-टीएमसी कार्यकर्ताओं की हिंसक झड़पें, 13 लोग गंभीर रूप से घायल

पश्चिम बंगाल के कई हिस्सों में सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस और पांव पसार रही भारतीय जनता पार्टी के बीच झड़पों में कम से कम 13 लोग घायल हो गए. इस दौरान कई दुकानें, घर और वाहन क्षतिग्रस्त हो गए. पुलिस ने यह बात शनिवार को कही. पश्चिमी मिदनापुर जिले से कई हिंसक घटनाओं की खबरें मिलीं.

केशपुर में शुक्रवार रात बीजेपी और तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच भिड़त में 10 लोग घायल हो गए. दोनों पार्टियों ने हिंसक घटनाओं के लिए एक-दूसरे पर ठीकरा फोड़ा और दोनों तरफ से दावा किया गया कि उनके कार्यकर्ताओं को पीटा गया है. चंद्रकोणा इलाके में दो जगह हुईं झड़पों में बीजेपी कार्यकर्ताओं की पिटाई से एक तृणमूल कांग्रेस नेता सहित तीन लोगों को अस्पताल में भर्ती होना पड़ा.

तृणमूल कांग्रेस के स्थानीय नेतृत्व ने आरोप लगाया कि दो दिन पहले खड़गपुर उपचुनाव हारने के बाद बीजेपी कार्यकर्ता हिंसा पर उतारू हो गए. उधर, बीजेपी ने आरोप लगाया कि तृणमूल कार्यकर्ताओं ने बेलदा स्थित उनके पार्टी कार्यालय में ताला लगा दिया.

मोहनपुर में भी पार्टी कार्यालय को लेकर हिंसक झड़पें होने की खबर है. तृणमूल का दावा है कि उनके कार्यालय पर बीजेपी ने जबरन कब्जा कर लिया. मोहनपुर मिदनापुर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र का हिस्सा है, जहां से बीजेपी राज्य इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष सांसद हैं.

मालूम हो कि लोकसभा चुनावों की तैयारी के समय से ही पश्चिम बंगाल में टीएमसी और बीजेपी के बीच हिंसक झड़पों का आगाज हो गया था. बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह भी जब चुनावी रैली के लिए बंगाल पहुंचे थे, तब उनकी रैली में भी पत्थरबाजी और हिंसक झड़पें हुई थी. तभी से दोनों दलों के कार्यकर्ता हिंसा के लिए एक दूसरे को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं.

ये भी पढ़ें: मामूली झगड़े के बाद शख्स ने बुजुर्ग को जड़ा जोरदार थप्पड़, हुई मौत

Related Posts