तमिलनाडु में जल संकट पर आमने-सामने आई राजनीतिक पार्टियां, अन्नाद्रमुक ने शुरू किया विरोध प्रदर्शन

इस बीच, सत्ताधारी पार्टी के नेता बारिश के लिए भगवान का आशीर्वाद पाने के लिए मंदिरों में यज्ञ कर रहे हैं. जहां चेन्नई और तमिलनाडु में कई अन्य जगहों पर पानी की भारी किल्लत का सामना करना पड़ रहा है,

तमिलनाडु में विपक्षी द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (द्रमुक) ने राज्य के जल संकट को दूर करने में नाकाम रहने पर शनिवार को राज्य भर में ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (अन्नाद्रमुक) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया.

इस बीच, सत्ताधारी पार्टी के नेता बारिश के लिए भगवान का आशीर्वाद पाने के लिए मंदिरों में यज्ञ कर रहे हैं. जहां चेन्नई और तमिलनाडु में कई अन्य जगहों पर पानी की भारी किल्लत का सामना करना पड़ रहा है, वहीं द्रमुक राज्य सरकार पर लोगों की समस्या दूर करने के लिए जरूरी कदम उठाने का दबाव बनाने के लिए विरोध प्रदर्शन आयोजित कर रहा है.

चेन्नई महानगर जल आपूर्ति और सीवरेज बोर्ड के अनुसार, शोलावरम (पूर्ण क्षमता 1,081 मिलियन क्यूबिक फीट) और रेडहिल्स (पूर्ण क्षमता 3,300 मिलियन क्यूबिक फीट) जलाशय, जो चेन्नई को पानी की आपूर्ति करते हैं, सूख गए हैं, वहीं, चेम्बरामबक्कम झील में केवल 1 मिलियन क्यूबिक फीट (एमसीएफटी)पानी बचा है और पूंडी जलाशय में 21 एमसीएफटी पानी ही बचा है. बारिश की कमी के कारण भूजल स्तर भी नीचे चला गया है.

Related Posts