दिल्ली में 26 से 29 जुलाई तक बारिश की संभावना, IMD ने कहा- बाकी राज्यों में ऐसा रहेगा हाल

शुक्रवार को हल्की बारिश (Rain in Delhi) मुख्य रूप से दक्षिण-पश्चिम उत्तर प्रदेश में साइक्लोनिक सर्कुलेशन (Cyclonic Circulation) के कारण हुई. पालम में लगभग 4.4 मिमी बारिश दर्ज की गई है.
rain in Delhi from 26 to 29 July, दिल्ली में 26 से 29 जुलाई तक बारिश की संभावना,  IMD ने कहा- बाकी राज्यों में ऐसा रहेगा हाल

दिल्ली के कुछ हिस्सों में शुक्रवार को हल्की बारिश (Rain in Delhi) हुई थी, और वीकेंड में भी आसमान में घने बादलों के साथ ऐसी ही स्थिति देखने को मिल सकती है. भारत मौसम विज्ञान विभाग (India Meteorological Department) के अधिकारियों का कहना है कि अगले हफ्ते की शुरुआत से उत्तर और पूर्वोत्तर भारत के लिए भारी बारिश की चेतावनी जारी की है, जो कई क्षेत्रों में बाढ़ की स्थिति पैदा कर सकती है.

NASA के तस्वीर जारी करने के बाद लगाया अनुमान

इस दौरान राजधानी दिल्ली में मध्यम स्तर की बारिश होगी और इसके 26 से 29 जुलाई तक जारी रहने का अनुमान है. अमेरिका की स्पेस एजेंसी नासा द्वारा जारी की गई तस्वीरों के बाद यह अनुमान लगाया गया है.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

इन तस्वीरों में दिखाया गया था कि भारत के कई क्षेत्रों में 1 जून से 20 जुलाई तक 100 सेमी (40 इंच) से अधिक बारिश हुई. असम का वो क्षेत्र जो बाढ़ से सबसे अधिक प्रभावित, वहां सामान्य से करीब 20 प्रतिशत ज्यादा बारिश दर्ज की गई. देश भर में हो रही मानसून की बारिश का अंतर उस स्थान से है जहां इसका ट्रफ है.

साइक्लोनिक सर्कुलेशन के कारण हुई बारिश

ऑनलाइन मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, शुक्रवार को हल्की बारिश मुख्य रूप से दक्षिण-पश्चिम उत्तर प्रदेश में साइक्लोनिकल सर्कुलेशन के कारण हुई. पालम में लगभग 4.4 मिमी बारिश दर्ज की गई है, जबकि दक्षिणी दिल्ली के अन्य इलाकों में भी बारिश दर्ज की गई.

मानसून ट्रफ वर्तमान में दिल्ली के दक्षिण में है. यह दक्षिण बीकानेर, ग्वालियर, वाराणसी, पटना, बोलपुर और पश्चिम बंगाल के हल्दिया में चल रहा है. एक वेस्टर्न डिस्टरबेंस जो अब अफगानिस्तान में है, वह 26 जुलाई से उत्तर-पश्चिमी क्षेत्र को प्रभावित करेगा. इसके चलते अगले हफ्ते उत्तर-पूर्व और उत्तर भारत में अत्यधिक भारी बारिश होने की संभावना है.

अन्य राज्यों में रहेंगे ये हालात

एक साइक्लोनिक सर्कुलेशन झारखंड के ऊपर है, जबकि एक अन्य साइक्लोनिक सर्कुलेशन दक्षिण-पश्चिम उत्तर प्रदेश और पड़ोसी क्षेत्रों में है. 25 जुलाई तक इन दोनों के मर्ज होने की संभावना है. मौसम विभाग ने शुक्रवार को अपने बुलेटिन में बताया कि इन मौसम संबंधी परिस्थितियों के प्रभाव में अगले 3 दिनों के दौरान पूर्वोत्तर और पूर्वी भारत (बिहार, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम) में इंटेंस और बहुत भारी बारिश होने की संभावना है.

26 से 28 जुलाई तक उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश, बिहार, पंजाब और हरियाणा में बहुत भारी बारिश होने की संभावना है. उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, असम, मेघालय और अरुणाचल पर बारिश की तीव्रता और बढ़ने की संभावना है. 26 से 29 जुलाई के बीच कई स्थानों पर 20 सेमी से अधिक बारिश होने की संभावना बुलेटिन मे जताई गई है.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts