गाय के दूध में होता है सोना, विदेशी नस्ल की गायें मां नहीं आंटी: दिलीप घोष

घोष ने गाय के दूध में सोना पाए जाने की बात पर तर्क देते हुए कहा कि सोने की उपस्थिति की वजह से ही गाय का दूध पीला या हल्का सुनहरा होता है.

पश्चिम बंगाल से लोकसभा सांसद और बीजेपी के अध्यक्ष दिलीप घोष ने गाय को लेकर ऊलजलूल बयान दिया है. घोष ने बर्दवान में आयोजित गोपा अष्टमी के कार्यक्रम के दौरान कहा कि भारतीय गायों के दूध में सोना होता है. उन्होंने भारतीय और विदेशी गायों में अंतर बताते हुए कहा, विदेशी नस्ल की गायें हमारी गोमाता नहीं हैं. वो हमारी आंटी हैं.

घोष ने गाय के दूध में सोना पाए जाने की बात पर तर्क देते हुए कहा कि सोने की उपस्थिति की वजह से ही गाय का दूध पीला या हल्का सुनहरा होता है. गायों में मौजूद एक नाड़ी सूरज की रोशनी में सोने का उत्पादन करती है.

‘घोष ने गोमांस सेवन को अपराध बताया और क्रूर अंदाज में कहा कि हमें देसी गायें पालनी चाहिए. देसी गाय का दूध पीने से हम स्वस्थ रहेंगे और बीमारियों से भी सुरक्षित रहेंगे.’

घोष ने ये भी कहा कि, ‘विदेश से लाई गई नस्लों की गायें गाय नहीं हैं. वो बस एक तरह के जानवर हैं. विदेशी नस्लों की आवाज गायों की तरह नहीं निकालती हैं. इसलिए वो हमारी गोमाता नहीं आंटी हैं. अगर हम आंटियों की पूजा करेंगे तो ये देश के लिए ठीक नहीं.’

दिलीप घोष ने कहा, ‘कुछ बुद्धिजीवी गोमांस खाते हैं, मैं कहता हूं कि वो कुत्ते का मांस भी खाएं, ताकि उनका स्वास्थ्य ठीक रहे. किसी को जिस जानवर का मांस खाना हो खाएं मगर सड़कों पर नहीं अपने घर पर.’

‘गाय हमारी मां है और हम गाय के दूध का सेवन कर जीवित हैं. गोमाता से दुर्व्यवहार करने वाले को सबक सिखाया जाएगा. भारत की पवित्र भूमि पर गोहत्या करना और गोमांस का सेवन करना अपराध है.’