तिहाड़ में कैसे 14 दिन काटेंगे चिदंबरम, क्‍या खाएंगे, कब सोएंगे? पढ़ें हर सवाल का जवाब

यूपीए सरकार में गृह मंत्री और वित्‍त मंत्री जैसे पदों पर रह चुके चिदंबरम को अब 19 सितंबर तक तिहाड़ जेल में ही रहना होगा.

नई दिल्‍ली: आईएनएक्स मीडिया केस में गिरफ्तार कांग्रेस नेता और पूर्व गृह मंत्री पी. चिदंबरम को 19 सितंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. अब उन्‍हें 14 दिन तिहाड़ जेल में रहना होगा. चूंकि पी चिदंबरम को जेड श्रेणी की सुरक्षा प्राप्‍त है, इसलिए दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट ने उन्‍हें तिहाड़ जेल के अलग सेल में रखने का आदेश दिया है.

राउज एवेन्‍यू कोर्ट के स्‍पेशल जज अजय कुमार कुहाड़ के सामने चिदंबरम की ओर से वरिष्‍ठ कांग्रेस नेता और वकील कपिल सिब्‍बल ने दलील पेश की. उन्‍होंने चिदंबरम को न्‍यायिक हिरासत में न भेजने की मांग की थी, जिसे कोर्ट ने खारिज कर दिया. यूपीए सरकार में गृह मंत्री और वित्‍त मंत्री जैसे पदों पर रह चुके चिदंबरम को अब 19 सितंबर तक तिहाड़ जेल में ही रहना होगा.

आखिर कैसे कटेंगे तिहाड़ जेल में पूर्व गृह मंत्री के 14 दिन. वह किस सेल में रहेंगे? उन्‍हें क्‍या-क्‍या सुविधाएं मिलेंगी? जेल में चिदंबरम को कितने बजे उठना होगा? इन सभी सवालों के जवाब के लिए हम आपके लिए लेकर आए हैं ये खास रिपोर्ट.

सवाल– तिहाड़ जेल पहुंचने के बाद चिदंबरम के साथ क्‍या हुआ?

जवाब– तिहाड़ पहुंचने के बाद जेल के अधिकारियों ने पहले उस ऑर्डर को फॉलो किया, जो अदालत की तरफ से लिखा गया. मसलन वो एप्लीकेशन, जिसमें चिदंबरम ने दवाइयों और वेस्टर्न टॉयलेट की मांग की थी. इसके अलावा चिदंबरम ने अलग सेल की भी मांग की थी. तिहाड़ पहुंचने पर चिदंबरम की हर आम कैदी की तरह तलाशी ली गई, कागजात पर साइन भी करवाए गए. इसके बाद जेल में ही उनका मेडिकल चेक-अप भी हुआ.

सवाल- तिहाड़ जेल में कहां रखा गया है पूर्व गृह मंत्री को?

जवाब- पी चिदंबरम को जेल नंबर- 7 के वार्ड नंबर- 2 में रखा गया है.

सवाल- चिदंबरम का सेल नंबर क्‍या है?

जवाब- चिदंबरम को सेल नंबर 15 में रखा गया है.

सवाल- तिहाड़ की जेल नंबर-7 में कुल कितने कैदी हैं?

जवाब- जेल नंबर 7 में कुल 700 से ज्‍यादा कैदी हैं.

सवाल- जेल में चिदंबरम को सुबह कितने बजे जागना होगा और नाश्‍ते-खाने में क्‍या मिलेगा?

जवाब- जेल में कैदियों को सुबह 6-7 बजे जागना होता है, दैनिक नित्‍यकर्म के सभी काम निपटाने के बाद नाश्ता दिया जाता है, जो कि दलिया/ब्रेड/चाय और बिस्किट हो सकता है.

-नाश्ते के बाद कैदियों को टहलने और एक्सरसाइज करने की भी अनुमति होती है.

-जेल में दोपहर 1 बजे लंच दिया जाता है, जो दाल, रोटी, सब्जी होती है.

-जेल में 8 बजे खाना दिया जाता है और 9 बजे सभी कैदी अपने-अपने सेल में चले जाते हैं.

सवाल– जेल में टीवी देख सकेंगे चिदंबरम?

जवाब-किसी भी अंडरट्रायल कैदी को जेल में टेलीविजन देखने या लाइब्रेरी जाने की अनुमति होती है. हालांकि, टीवी देखने की सुविधा सीमित होती है. दिन में सिर्फ डेढ़ घंटे ही टीवी देखने की इजाजत होती है.