केजरीवाल दिल्ली की जनता को बार-बार झांसा नहीं दे सकते: अमित शाह

अमित शाह ने कहा, "मीडिया के मित्र मुझसे पूछते हैं कि आप पिछली बार यहां बुरी तरह हारे थे, इस बार आपकी जीत का आधार क्या है? मैंने उन्हें कहा कि झांसा कोई किसी को एक बार दे सकता है, बार-बार नहीं. केजरीवाल जी एक बार झांसा दे चुके हैं."
kejriwal Cant mislead people all the time, केजरीवाल दिल्ली की जनता को बार-बार झांसा नहीं दे सकते: अमित शाह

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह ने रविवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर जनता को झांसा देने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि भाजपा का बूथ स्तर का कार्यकर्ता दिल्ली का चुनाव लड़ेगा और पार्टी को विधानसभा चुनाव में जीत दिलाएगा.

अमित शाह ने यहां इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में आयोजित ‘अपना बूथ, सबसे मजबूत’ रैली को संबोधित करते हुए कहा, “मीडिया के मित्र मुझसे पूछते हैं कि आप पिछली बार यहां बुरी तरह हारे थे, इस बार आपकी जीत का आधार क्या है? मैंने उन्हें कहा कि झांसा कोई किसी को एक बार दे सकता है, बार-बार नहीं. केजरीवाल जी एक बार झांसा दे चुके हैं.”

भाजपा अध्यक्ष ने कहा, “नगर निगम के चुनाव में आप (आम आदमी पार्टी) का सूपड़ा साफ हो गया. इसके बाद 2019 के चुनाव में दिल्ली के 13750 बूथों में से 12064 बूथों पर भारतीय जनता पार्टी को पार्टी कार्यकर्ताओं ने जीत दिलाई है. 88 फीसदी से ज्यादा बूथों पर पार्टी जीती और उसे 56 फीसदी से ज्यादा वोट मिले. यह दिल्ली के चुनावी इतिहास में एक रिकॉर्ड है.”

उन्होंने कहा, “बड़े अंतर से हमारे सातों सांसद जीतकर आए. कार्यकर्ताओं ने एमसीडी भी जीताया और लोकसभा भी जीताया. मैं कार्यकर्ताओं के भरोसे कह सकता हूं कि भाजपा जीत रही है और दिल्ली में सरकार बनाएगी. भाजपा लोकतंत्र में विश्वास करती है. हमारे लिए चुनाव सत्ता पाने का जरिया नहीं, बल्कि सरकार कार्यो को आम जनता तक पहुंचाने का माध्यम है.”

अमित शाह ने कार्यकर्ताओं से कहा कि वे घर-घर जाकर लोगों को सरकार की कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी देने का काम करें. उन्होंने भारत के लोकतंत्र को दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र बताते हुए कहा कि उन्हें चुनावी सभाएं कर के नहीं, बल्कि घर-घर जाकर लड़ना है.

भाजपा अध्यक्ष ने कहा, “मैं खुद घर-घर जाकर इस अभियान की शुरुआत करूंगा. दिल्ली का एक भी नागरिक ऐसे नहीं छूटना चाहिए, जिसके यहां हमारी पार्टी का कार्यकर्ता मोदी जी का फोटो और कमल का निशान लेकर प्रचार करने न जाए. पांच साल के मोदी जी के काम को घर-घर तक पहुंचाने का काम हमें करना है.”

उन्होंने दिल्ली की जनता को से कहा, “आपने 60 महीने पहले आम आदमी पार्टी की सरकार चुनी. इससे पहले 15 साल तक कांग्रेस थी, उन्होंने क्या किया, उनसे हिसाब मांगें. जनता के कल्याण के सारे पैसे विज्ञापनों पर खर्च कर रहे हैं. पांच साल तक कुछ नहीं किया और अब कार्य शुरू कर रहे हैं, नई बातें कर रहे हैं. उन्हें भी पता है कि उन्हें इसे पूरा नहीं करना है.”

अमित शाह ने कहा कि “अनाधिकृत कॉलोनियों को अधिकृत करने का कार्य किया जा रहा है. पार्टी कार्यकता 40 लाख परिवारों के पास जाएं और उन्हें बताएं कि नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा यह संभव हो पाया है.”

केंद्रीय गृहमंत्री शाह ने कार्यकर्ताओं को चुनाव जीतने का टिप्स देते हुए कहा, “सिख विरोधी दंगों में मारे गए लोगों के परिजनों को पांच लाख रुपये मुआवजा देने का काम किया गया. दोषियों को तिहाड़ में सलाखों के पीछे भेजने का काम भी मोदी सरकार ने किया। कांग्रेस की सरकार ने उनके घावों पर कभी मरहम नहीं लगाया। यह बात लोगों को बताएं.”

उन्होंने आगे कहा, “करतारपुर कॉरिडोर परियोजना की नीव रखने का काम भी मोदी सरकार ने किया. इसके अलावा 160 जेजे कलस्टर का निर्माण शुरू हो चुका है और गुजरात की तरह ही यमुना के किनारे रिवर फ्रंट बनाया जा रहा है.”

अमित शाह ने सरकार द्वारा किए गए अनेकों कार्यो का जिक्र करते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधा और पूछा, “हम तो अपने किए गए कार्यो को लेकर जनता के बीच जाएंगे, लेकिन केजरीवाल जी आप क्या करेंगे? आपने कहा था कि 20 कॉलेज बनेंगे, मैं दूरबीन लगाकर देख रहा हूं वे कहां है? पांच हजार से ज्यादा स्कूलों का क्या हुआ? फ्री वाई-फाई और सीसीटीवी कैमरों का क्या हुआ? आप सिर्फ दिल्लीवालों को झांसा देना चाहते थे.”

गृहमंत्री शाह ने यहां यह संकेत भी दिया कि दिल्ली चुनाव में भाजपा नागरिकता के मुद्दे को उठाएगी. उन्होंने कहा, “नागरिकता कानून पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने जनता को गुमराह किया और दंगे करवाने का काम किया.”

उन्होंने कहा, “क्या दिल्ली की जनता राजनीति करने और दंगा कराने वालों की सरकार चाहती है? सीएए में क्या कोई बुराई है? पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आए अल्पसंख्यकों को नागरिकता क्यों नहीं मिलनी चाहिए? आप में हिम्मत नहीं थी, मोदी जी ने महात्मा गांधी के वादे को पूरा किया और अब आप देश के नागरिकों (अल्पसंख्यकों) को भड़काने का काम कर रहे हो?”

अमित शाह ने कहा कि वह अल्पसंख्यकों को विश्वास दिलाना चाहते हैं कि सीएए से किसी की नागरिकता नहीं छिनी जा रही है. यह नागरिकता देने का प्रावधान है, लेने का नहीं.

ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर हुए हमले का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, “केजरीवाल जी, सोनिया जी, राहुल जी कहते हैं कि पाकिस्तान में कहां अत्याचार है? आंखें खोल कर देखें कि हाल ही में ननकाना साहिब में हमला कर के सिख भाइयों को आतंकित करने का काम पाकिस्तान ने किया. सीएए का विरोध कर रहे लोगों के लिए यह एक जवाब है. ऐसी घटना के चलते सिख यहां नहीं आएंगे तो कहां जाएंगे?”

Related Posts