भारतीय सेना को मिले पाकिस्‍तानी AMRAAM मिसाइल के टुकड़े, जानें इसके बारे में सबकुछ

भारतीय सेना ने बताया कि जिस AMRAAM Missile के टुकड़े रजौरी में मिले हैं, उसे सिर्फ एफ-16 से ही लॉन्‍च किया जा सकता है. यह इस बात का सबूत है कि पाकिस्‍तान ने एफ-16 का इस्‍तेमाल किया.

नई दिल्ली: आज शाम भारत के तीनों सेनाओं की प्रेस कॉन्फ्रेंस के साथ ही पाकिस्तान के चेहरे से झूठ का नकाब हट गया. एक बार फिर पाकिस्तान का महाझूठ पकड़ा गया. एक दिन पहले पाकिस्तान ने भारतीय सैन्य ठिकानों पर हमले के लिए F- 16 फ़ाइटर जेट का इस्तेमाल किया था. लेकिन पाकिस्तान एफ-16 जेट के इस्तेमाल को सिरे से नकार रहा था. लेकिन आज भारत के तीनों सेनाओं ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पाकिस्तान के इस झूठ का पर्दाफ़ाश कर दिया. भारत ने एमराम मिसाइल के वो टुकड़े दिखाए जो सिर्फ एफ-16 फाइटर जेट पर ही लगाए जा सकते हैं.

क्या है AMRAAM

AMRAAM (Advanced Medium Range Air to Missile) एक एडवान्स्ड मीडियम रेंज का मिसाइल है. यह मिसाइल हवा से हवा में मार करने की क्षमता रखता है. पाकिस्तान के पास जितने भी फाइटर जेट है. उनमें सिर्फ एफ-16 ही एक ऐसा फाइटर विमान है, जिसके सहारे इस मिसाइल को दागा जा सकता है.

पाकिस्तान ने 26 जुलाई 2010 को पहली बार एमराम मिसाइल अमेरिका से खरीदा. हालांकि यह मिसाइल अमेरिका के पास 1991 से सर्विस में है. इस मिसाइल के कई प्रकार है. जिनमें – AIM-120A, AIM-120B, AIM-120C, AIM-120C -4/5/6/7, AIM-120D है. इस मिसाइल का वजन लगभग 150 किलोग्राम होता है. और इसकी लंबाई 3.7 मीटर होती है. पाकिस्तान ने गुरुवार को AIM-120C-5 मिसाइल का इस्तेमाल किया था. जिसकी मारक क्षमता तकरीबन 105 किलोमीटर है. यह मिसाइल 6,125 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ़्तार से वार करती है. एमराम मिसाइल को बोइंग F/A-18E/F सुपर हॉरनेट, यूरोफाइटर टाइफून, एफ-16 फाइटिंग फॉलकॉन, एफ-22 रैपटॉर, एफ-35 जैसे लड़ाकू विमानों से दागे जा सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *