पाकिस्तानी उसे घेरे रहे, वो भारत माता की जय के नारों के साथ गोलियां चलाता रहा

भारतीय वायुसेना के जाबांज़ विंग कमांडर अभिनंदन की देश वापसी होने वाली है, लेकिन हम सभी जानना चाहते हैं कि पाकिस्तानी कब्ज़ेवाली ज़मीन पर पैराशूट से लैंड करने के बाद हमारे बहादुर अफसर ने हालात को कैसे संभाला.. पेश है जांबाज़ अभिनंदन की कहानी..

  • TV9.com
  • Publish Date - 9:55 am, Fri, 1 March 19
पाकिस्तान के कब्ज़े में करीब 48 घंटों तक रहनेवाले बहादुर पायलट विंग कमांडर अभिनंदन की आज वतन वापसी हो रही है. पूरा देश अभिनंदन का अभिनंदन करने के लिए बेकरार है. आप और हम सभी जानना चाहते हैं कि जब मिग-21 पीओके में गिरा तो उसके बाद अभिनंदन पर क्या गुज़री और किस तरह उन्होंने हालात का सामना किया. दुनिया गवाह बनी कि भारतीय वायुसेना के जाबांज़ अफसर ने विपरीत परिस्थितियों में भी अपने तेवर कैसे कायम रखे, साथ ही पूरी ज़िम्मेदारी से अपनी सेना की गोपनीयता भी बनाए रखी.
पाकिस्तान के मॉडर्न F-16 को गिराते हुए पहुंचे पीओके
27 फरवरी के दिन सुबह से ही पाकिस्तानी लड़ाकू विमानों ने भारतीय वायु सीमा का उल्लंघन कर सैन्य ठिकानों को निशाना बनाना शुरू कर दिया था. भारतीय वायुसेना ने भी जवाबी कार्रवाई की और उसी कार्रवाई का हिस्सा बने विंग कमांडर अभिनंदन. अभिनंदन अपने पुराने मिग से पाकिस्तान के सबसे आधुनिक लड़ाकू जहाज F-16 को खदेड़ते हुए भारतीय सीमा से बाहर ले जा रहे थे. उन्होंने पाकिस्तानी लड़ाकू विमान को धूल चटाकर कामयाबी तो हासिल की लेकिन इस दौरान उनका जहाज भी क्रैश हो गया. अभिनंदन ने चुस्ती के साथ पैराशूट खोला और ज़मीन पर सुरक्षित उतर आए. अभिनंदन जब ज़मीन पर उतरे तब उन्हें नहीं मालूम था कि वो पीओके में भिंबर ज़िले के होर्रान गांव में हैं. बीबीसी से बात करते हुए उसी गांव के सरपंच मोहम्मद रज़ाक चौधरी ने आंखों देखा पूरा वाकया बयान किया है.
चश्मदीद ने बताई क्रैश के बाद की कहानी
उन्होंने बताया कि कैसे गांव वालों ने विमान का मलबा गिरते दिखा, पैराशूट से नीचे उतरते विंग कमांडर अभिनंदन को देखा और किस तरह लोगों ने जाकर उन्हें घेर लिया. अभिनंदन ने लोगों को आते देखा तो पूछा कि , ‘ये भारत है या पाकिस्तान’?
सरपंच चौधरी बताते हैं कि इस पर एक चालाक पाकिस्तानी लड़कने ने जवाब दिया कि ये भारत है. इसके बाद अभिनंदन ने जोशो खरोश मेंभारत माता की जयके नारे लगाए लेकिन बदले में जब गांव वालों नेपाकिस्तान ज़िंदाबादकहा तो उन्हें माजरा समझ आया.
दरअसल गांव वालों ने अभिनंदन के पैराशूट पर पहले ही भारत का झंडा देख लिया था. वो जानते थे कि अभिनंदन भारतीय वायुसेना के पायलट हैं. इसके बाद अभिनंदन ने खुद बताया कि उनकी पीठ में चोट लगी है. उन्होंने पीने के लिए पानी भी मांगा लेकिन नाराज पाकिस्तानी उनकी तरफ बढ़ रहे थे. जान को खतरा भांपकर अभिनंदन ने अपनी पिस्टल निकाल ली. उन्होंने अपनी पिस्टल स्थानीय लोगों पर तान भी दी और हवाई फायर कर आधा किलोमीटर तक भागे. थोड़ी दूर जाकर एक तालाब में कूद गए और पानी में अपने पास मौजूद दस्तावेजों को नष्ट करने लगे. इस दौरान अभिनंदन कुछ कागज़ातों को चबा भी गए. तभी वहां स्थानीय लोग और पाक फौज के जवान पहुंच गए. अभिनंदन से हथियार छीन लिया गया और कुछ लोगों ने मारपीट शुरू कर दी. पाकिस्तनी सुरक्षाकर्मियों ने मुश्किल से अभिनंदन को लोगों के बीच से निकाला और जीप में बैठाकर साथ ले गए. मिग क्रैश होने के बाद अभिनंदन की इस कहानी को पाकिस्तानी अखबार डॉन ने भी छापा है
पाकिस्तानी कैद, लहूलुहान काया लेकिन तेवर कायम
अभिनंदन को पाकिस्तानी सेना अपने साथ ले आई. उनके दो वीडियो जो जारी हुए वो इसी दौरान के हैं. पहले वीडियो में अभिनंदन की आंखों पर पट्टी बंधी है और वो खून से सराबोर हैं. उनसे पाकिस्तानी कुछ सवाल कर रहे हैं और वो अपना नाम बताने के अलावा हर सवाल का जवाब ना में दे रहे हैं. यहां तक कि जब पाकिस्तानी मेजर ने पूछा –  आपका मिशन क्या थातो अभिनंदन ने कहा सॉरी मेजरमैं ये आपको नहीं बता सकता.
दुश्मन देश की सरजमीं पर मिग क्रैश होने के बाद खून से लथपथ भारतीय जांबाज विंग कमांडर अभिनंदन से जब पाकिस्तानी सेना का मेजर सवालजवाब कर रहा था तो यही उनका जवाब था. विंग कमांडर की आंखों पर पट्टी बंधी थी. पीठ की तरफ हाथ बंधे थे. पैरों में भी रस्सी थी. उन्हें नहीं पता था कि अगले पल उनके साथ क्या होने वाला हैफिर भी पाकिस्तानी सेना अधिकारियों के सवालों का जवाब देते वक्त विंग कमांडर अभिनंदन सीना तान कर कह रहे थे कि जो बताना था बता दिया और इससे ज्यादा मैं अब कुछ नहीं बता सकता. न कोई डर, न कोई बेचैनी, न कोई घबराहट. देश के लिए जान हथेली पर रखकर दुश्मन को निशाना बनाने गए मिग के पायलट अभिनंदन तन कर दुश्मनों के सामने खड़े थे. शायद पहली बार देश ने अपने जांबाज जवान को दुश्मन की सरहद में इस कदर बेफिक्र होकर वतन के लिए मर मिटने के जज्बे के साथ देखा. भारत की वायुसीमा लांघने का दुस्साहस करने वाले पाकिस्तानी जंगी जहाज एफ-16 को उसी की सीमा में घुसकर मार गिराने वाले विंग कमांडर अभिनंदन की दिलेरी से दुनिया चकित हैदुश्मन देश की सेना की कस्टडी में इस बहादुर सैनिक ने अपने साहस और शौर्य से सबका दिल जीत लियाअभिनंदन ने न सिर्फ बेखौफ होकर पाकिस्तानी सेना के अफसरों के सवालों के उतने ही जवाब दिए जितना दिया जाना चाहिएकई सवालों के जवाब देने से इनकार भी कर दियादुश्मनों की कस्टडी में होकर अभिनंदन ने ये साबित कर दिया कि हिन्दुस्तान का साहसी और निडर सैनिक किस मिट्टी का बना होता है . अभिनंदन के इस वायरल वीडियो को करोड़ों लोगों ने देखा होगा और जिसने भी देखा होगा एक बार जरुर अभिनंदन के बेखौफ अंदाज का कायल हुआ होगा
दूसरे वीडियो में अभिनंदन एक बार फिर दिखे, लेकिन इस बार उनके चेहरे से खून साफ कर दिया गया. वीडियो बनाने से पहले उन्हें फर्स्ट एड दिया गया. इस वीडियो में अभिनंदन पूरे हौसले और जज़्बे के साथ एक पाकिस्तानी मेज़र के सवालों का किस संयम और तेवर से जवाब दे रहे हैं, आप खुद पढ़िए.
पाकिस्तानी मेजरआपका नाम क्या है?
अभिनंदनविंग कमांडर अभिनंदन
पाकिस्तानी मेजरआशा है कि यहां आपके साथ हम अच्छा व्यवहार कर रहे हैं?
अभिनंदनजी बिल्कुलइसे मैं रिकॉर्ड में लाना चाहूंगा और साथ ही अगर देश लौटा तो भी ये बयान नहीं बदलूंगा. पाकिस्तानी सेना के अफसरों ने मेरा अच्छा ख्याल रखा. कैप्टेन ने मुझे भीड़ से बचाया. मैं चाहता हूं कि भारतीय सेना भी इसी तरह व्यवहार करे. मैं पाकिस्तानी सेना से प्रभावित हूं.
पाकिस्तानी मेजरआप भारत में कहां के रहने वाले हैं
अभिनंदनमैं यहां नहीं बता सकता. दक्षिण भारत में कहीं से हूं.
पाकिस्तानी मेजरक्या आप शादीशुदा हैं
अभिनंदनजी हां
पाकिस्तानी मेजरआप कौन सा एयरक्राफ्ट उड़ा रहे थे
अभिनंदनसॉरीमैं ये नहीं बता सकतालेकिन मुझे विश्वास है कि आपने मलबे से पता लगा लिया होगा.
पाकिस्तानी मेजरआपका मिशन क्या था?
अभिनंदनसॉरी मेजरमैं ये आपको नहीं बता सकता.
अब अभिनंदन की वतन वापसी हो रही है और पूरा देश अपने वीर बांकुड़े के इंतजार में है
ऐसे जैसे करोड़ों लोग कह रहे हों  – जियो मेरे शेर