अफवाहों पर न दें ध्यान, सही समय पर घाटी में शुरू होगा इंटरनेट; राज्यसभा में बोले शाह

जम्मू-कश्मीर में इंटरनेट बहाली पर फैसला स्थानीय प्रशासन सुरक्षा स्थिति की समीक्षा के बाद अपने स्तर पर लेगा. 

गृहमंत्री अमित शाह ने बुधवार को राज्यसभा में जम्मू-कश्मीर के हालात पर चर्चा की और सांसदों के सवालों का जवाब दिया. कश्मीर के हालात को लेकर उन्होंने कहा कि कश्मीर में हालात सामान्य ही हैं. वहां की स्थिति पूरी तरह से सामान्य हो चुकी है. हालांकि देश-दुनिया में कई तरह की भ्रांतिया फैली हुई हैं. राज्य में 5 अगस्त के बाद पुलिस फायरिंग की वजह एक भी व्यक्ति की जान नहीं गई है.

शाह ने आगे कहा कि पिछले एक साल की तुलना करें तो पत्थरबाजी की घटनाओं में काफी कमी आई है. सभी स्कूल खुले है. परीक्षा अच्छे तरीके से ली जा रही है. सभी अस्पताल और स्वास्थ्य केंद्र खुले हैं.

वहीं राज्य में स्वास्थ्य संबंधी सुविधाओं के लिए सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयासों को लेकर गृहमंत्री ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में दवाई की पर्याप्त उपलब्धता है, अस्पतालों में काफी संख्या में लोग ओपीडी में आ रहे हैं. कहीं भी स्वास्थ्य संबंधी सेवाओं में कोई दिक्कत नहीं है.

वहीं इंटरनेट सुविधा बहाल करने को लेकर शाह ने कहा कि इंटरनेट सेवा जल्द चालू करना चाहिए, इस बात से मैं सहमत हूं, लेकिन जब देश की सुरक्षा का सवाल है तो प्रथमिकता तय करनी पड़ती है. जब प्रशासन को सही लगेगा तो इसपर विचार करेंगे. कश्मीर में हालात सुधर रहे हैं. जम्मू-कश्मीर में इंटरनेट बहाली पर फैसला स्थानीय प्रशासन सुरक्षा स्थिति की समीक्षा के बाद अपने स्तर पर लेगा.

वहीं जम्मू एवं कश्मीर में धारा 144 लागू किए जाने के मुद्दे पर शाह ने कहा कि यह धारा कुछ थाना क्षेत्रों में सिर्फ सीमित समय शाम आठ बजे से सुबह छह बजे तक लागू है.

उन्होंने कहा, “कुल 195 पुलिस थानों में से एक में भी धारा 144 लागू नहीं है. यह पूरी तरह से हटा दी गई है. एहतियातन यह शाम आठ बजे से सुबह छह बजे तक लगाई जाती है, वह भी चुनिंदा पुलिस थानों के क्षेत्रों में.”