समस्याओं का समाधान करो वरना लोगों से ‘धुलाई’ करने के लिए कह दूंगा, केंद्रीय मंत्री गडकरी ने किसे दी धमकी?

गडकरी ने कहा कि उद्यमिता को बढ़ावा देना सरकार का महत्वपूर्ण मिशन रहा है.

नागपुर: लाल फीताशाही पर निशाना साधते हुए केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने शनिवार को कहा कि उन्होंने कुछ अधिकारियों को आज आगाह किया कि यदि चंद मुद्दों का समाधान नहीं किया गया तो वह लोगों से कहेंगे कि ‘धुलाई करो’. केंद्रीय मंत्री एमएसएमई सेक्टर में काम कर रहे संघ से जुड़े संगठन लघु उद्योग भारती के एक सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे. गडकरी के पास सड़क परिवहन, सुक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम विभाग की जिम्मेदारी है. सम्मेलन में शामिल उद्यमियों से गडकरी ने निडर होकर उनके कारोबार का विस्तार करने की बात की. वह इस बात पर भी बोले कि किस तरह सरकारी अधिकारियों द्वारा कारोबारियों को परेशान किया जा रहा है.

नागपुर लोकसभा सीट का प्रतिनिधित्व करने वाले गडकरी ने कहा, ‘हमारे यहां लाल फीताशाही क्यों है, क्यों ये निरीक्षक आते हैं और ‘हफ्ता’ लेते हैं. मैंने उन्हें उनके मुंह पर कहा, आप (सरकारी) नौकर हैं, मैं लोगों द्वारा निर्वाचित हूं. मेरी जवाबदेही लोगों के प्रति है. अगर आप चोरी करेंगे, मैं कहूंगा कि आप चोर हैं. आज मैंने यहां आरटीओ दफ्तर में एक बैठक की…निदेशक और परिवहन आयुक्त ने इसमें हिस्सा लिया.’

साथ ही गडकरी ने कहा, ‘मैंने उन्हें बताया, आप इस समस्या को आठ दिनों में सुलझाइये, अन्यथा मैं लोगों से कहूंगा कि धुलाई करो. मेरे गुरु ने मुझे यह सिखाया- ऐसी व्यवस्था को परे हटाओ जो न्याय न देती हो.’ अपने मुखर बयानों के लिये चर्चा में रहने वाले मंत्री ने यह नहीं बताया कि वह किस समस्या के संदर्भ में यह बात कह रहे थे.

इसके अलावा नितिन गडकरी ने कहा कि भुगतान में विलंब एमएसएमई के लिये मुख्य परेशानी है. उन्होंने कहा कि वह इस मुद्दे का समाधान निकालने की कोशिश कर रहे हैं. गडकरी ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से संबंधित संगठन लघु उद्योग भारती के एक कार्यक्रम में कहा कि अगले पांच साल में दिल्ली से प्रदूषण को पूरी तरह से समाप्त कर लिया जाएगा. उन्होंने कहा, ‘छोटे उद्योग के उत्पादकों को कभी भी समय पर पैसा नहीं मिल पाता है. यह उन्हें समाप्त कर देता है. मैं इस बारे में गंभीरता से सोच रहा हूं कि चाहे निजी क्षेत्र हो या सरकारी, एमएसएमई को 45 दिनों में भुगतान मिल जाये. मैं इस बारे में कुछ ठोस निर्णय लेने की कोशिश कर रहा हूं.’

उन्होंने कहा कि एमएसएमई रोजगार सृजन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. गडकरी ने कहा, ‘अभी एमएसएमई 11.50 करोड़ युवाओं को रोजगार दे रहे हैं. मैं कोशिश कर रहा हूं कि अगले पांच साल में एमएसएमई में पांच करोड़ और लोगों को रोजगार मिल सके.’ उन्होंने कृषि क्षेत्र के संकट के बारे में चिंता जाहिर करते हुए कहा कि एमएसएमई मंत्रालय हथकरघा, हस्तशिल्प तथा कृषि उत्पाद प्रसंस्करण उद्योगों पर भी ध्यान दे रहा है.

साथ ही उन्होंने दिल्ली में प्रदूषण के बारे में कहा, ‘मैं आपको यह बताना चाहता हूं कि इन पांच सालों में इस दिशा में कदम उठाये गये हैं. अगले पांच साल में दिल्ली वायु प्रदूषण और जल प्रदूषण से पूरी तरह मुक्त हो जाएगा.’

गडकरी ने कहा कि उद्यमिता को बढ़ावा देना सरकार का महत्वपूर्ण मिशन रहा है. इसके बिना देश को पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था नहीं बनाया जा सकता है.